प्राचीन गरबा एवं ढाल तलवार, कत्थक से सजी मालवा उत्सव की शाम, देवी अहिल्या का स्वागत रहा खास

लोक कलाकारों की व्यवस्था देख रहे रितेश पिपलिया, विशाल गिदवानी एवं निवेश शर्मा ने बताया कि कलाकारों को बड़े दिनों बाद मंच मिलने पर वह काफी खुश नजर आ रहे हैं और उनकी यह खुशी उनके नृत्यों में भी झलकती हुई दिख रही है।

इंदौर। लोक संस्कृति मंच द्वारा इंदौर गौरव दिवस के अंतर्गत आयोजित मालवा उत्सव के चतुर्थ दिवस पर आज शिल्प बाजार में काफी संख्या में कलाप्रेमी पहुंचे शिल्प बाजार में फरीदाबाद से अतुल सागर टेराकोटा का विशाल संग्रह जिसमें कछुआ फ्लावर पॉट बुद्धा आदि है लेकर आए हैं। वही गुजरात से संगीता हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग की बेडशीट जूट के बैग लेकर आए हैं । वही पीतल शिल्प, लौह शिल्प, पोचमपल्ली साड़ियां, महेश्वरी साड़ियां, गलीचा, ड्राई फ्लावर, बांस शिल्प, केन फर्नीचर सहित अनेकों आइटम यहां मौजूद है।

यूपी भदोही से कालीन लेकर अफजल आए हैं तो बनारसी साड़ी लेकर शर्मिला जी आई हैं वही चीनी मिट्टी से बने बर्तन लेकर मुजम्मिल खुर्जा उत्तर प्रदेश से आए हैं तो कुश की चटाई लेकर कोलकाता से सनातन यहां मेले में आए हैं वही खादी की कुर्तियां लेकर आमिर लखनऊ से आए हैं तो जाकिर हुसैन आगरा से खूबसूरत हाथों से बनी ज्वेलरी लेकर आए हैं

लोक कलाकारों की व्यवस्था देख रहे रितेश पिपलिया, विशाल गिदवानी एवं निवेश शर्मा ने बताया कि कलाकारों को बड़े दिनों बाद मंच मिलने पर वह काफी खुश नजर आ रहे हैं और उनकी यह खुशी उनके नृत्यों में भी झलकती हुई दिख रही है।

Must Read- गौरव दिवस के मुख्य समारोह में भाग लेने के लिए इन 5 संस्थानो पर मिलेंगे पास

लोक संस्कृति मंच के संयोजक शंकर लालवानी ने बताया कि आज सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सफेद रंग की चनिया चोली पहने गुजरात के कलाकारों ने मनिहारी रास प्रस्तुत करके सबका मन मोह लिया। स्थानीय कलाकार संतोष देसाई एवं समूह द्वारा प्रस्तुत रामाष्टकम जोकि वेदव्यास द्वारा रचित है प्रस्तुत हुआ जिसमें भगवा रंग के परिधान में लाल चुन्नी पहनकर 12 लड़कियों द्वारा शास्त्रीय नृत्य प्रस्तुत किया गया जो शंख ध्वनि और मंगल भवन अमंगल हारी के घोष से प्रारंभ हुआ ।वही बैगा जनजाति का नृत्य पीला झोगा सफेद धोती पहन कर किया गया बड़ा ही खूबसूरत था। वही ध्रुपद डांस एकेडमी के आशीष पिल्लई एवं शिष्यों द्वारा “बरसे बदरिया सावन की “बोल पर कृष्ण का इंतजार करती मीरा के मन की व्यथा को बादलों के माध्यम से कत्थक के रूप में प्रस्तुत किया गया जो कि दर्शकों की तालियां बटोर गया।

वहीं ज्योत्सना सोहनी एवं शिष्यों द्वारा पिंक ब्लू परिधान में 8 लड़कियों ने देवी अहिल्या के इंदौर प्रथम आगमन के प्रसंग को डांस के माध्यम से स्वागतम स्वागतम द्वारा कत्थक से दर्शाया एवं साथ ही नर्मदअष्टकम भी प्रस्तुत किया। वहीं कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले से आए कलाकारों द्वारा ढोल कुनीथा नृत्य जिसमें 12 से 15 कलाकारों ने बड़े-बड़े ढोल को जोर जोर से बजा कर उछल उछल कर नृत्य किया और पिरामिड बनाकर सबको अचंभित किया उन्होंने टाइगर बंडी पहनकर पीला साफा सर पर बांध रखा था। वही शोभा रोडवाल व शिष्य द्वारा शुद्ध कत्थक में शिव तांडव प्रस्तुत किया मरून गोल्डन रंग के परिधान में खूबसूरती से ततकार, तिहाई ,तराना पेश किया गया वही पल्लवी शर्मा एवं शिशु द्वारा शिव पार्वती संघ आराधना प्रस्तुत की गई यह कथक के रूप में प्रस्तुत की गई।

Must Read- Indore Pride Day: रंजीत हनुमान के दरबार में हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम, लगातार 12 घंटे प्रस्तुति देंगे कलाकार

गुरु घासीदास के जन्मदिवस पर सतनामी समाज द्वारा किया जाने वाला नृत्य पंथी भी प्रस्तुत किया गया। राजपूतों का शोर्य दिखाता गुजरात के कलाकारों द्वारा ढाल तलवार विजय उत्सव की याद दिला गया। कोरकू जनजाति द्वारा थापटीएवं गदली नृत्य प्रस्तुत किया गया। लोक संस्कृति मंच के सचिव दीपक लंवगड़े ने बताया कि कल 29 मई को शिल्प मेला दोपहर 4 बजे से सांस्कृतिक संध्या सायंकाल 7:30 बजे से प्रारंभ होगी जिसमें ढोल पाठक, लावणी, कोली, ढोल कुनीथा, रास गरबा, गुदुमबाजा ,गणगौर, सिंधी छेज नृत्य होंगे।