अमृत महोत्सव: पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर ने आईएनएस सुमेधा में नौसेना का बढ़ाया हौसला

मध्य प्रदेश की पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर ने आईएनएस सुमेधा में नौसेना का हौसला बढ़ाया उषा ठाकुर मलेशिया के पोर्ट क्लैग में आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम में शामिल हुई.

इंदौर। मध्य प्रदेश की पर्यटन, संस्कृति और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर ने मलेशिया के पोर्ट क्लैंग में भारतीय नौसेना के जहाज आईएनएस सुमेधा पर नौसेना का हौसला बढ़ाया। आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम में उन्होंने भारत की समुद्री सीमाओं की प्रभावी ढंग से रक्षा करने वाली भारतीय नौसेना को सर्वोच्च स्थान देने की बात कही। पर्यटन मंत्री इन दिनों थाईलैंड, मलेशिया और कंबोडिया का दौरा कर रही है।

बता दें उषा ठाकुर अपने थाईलैंड, मलेशिया और कंबोडिया के दौरे के दौरान मलेशिया स्थित भारतीय उच्चायुक्त एच.ई.बी.एन. रेड्डी के विशेष आमंत्रण पर कार्यक्रम में शामिल हुई थी। कार्यक्रम में एसीओएस (ऑपरेशन्स एंड स्ट्रैटेजी), रॉयल मलेशियाई नेवी रियर एडमिरल खिर जुनैदी बिन इदरीस और प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक टूरिज्म बोर्ड शिव शेखर शुक्ला भी उपस्थित थे।

Also Read: मौसम विभाग ने जारी किया यलो अलर्ट, इन जिलों में गरज चमक के साथ होगी झमाझम बारिश

उन्होंने कहा कि मलेशिया और भारत प्राचीन काल से विभिन्न सांस्कृतिक और ऐतिहासिक संबंधों से जुड़े हुए हैं। दोनों देश एक-दूसरे के साथ उत्कृष्ट मैत्रीपूर्ण दौर में हैं। जब से भारत ने अपनी विदेश नीति को पुनर्निधारित किया और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों के साथ अपने व्यापार संबंधों का विस्तार किया, तब से भारत के मलेशिया के साथ उत्कृष्ट व्यापारिक संबंध हैं। मलेशिया भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) करने वाले दुनिया के चुनिंदा देशों में से एक है। दोनों देशों की अर्थ व्यवस्था में कई समानताएं हैं, जिनमें दोनों राष्ट्रमंडल राष्ट्रों का हिस्सा हैं, विकासशील अर्थव्यवस्था और उदारीकरण के बाद दोनों देशों ने काफी तरक्की की है।

आईएनएस सुमेधा वर्ष 2022 में मलेशिया का दौरा करने वाला दूसरा भारतीय नौसेना जहाज है। यह एक संयुक्त नौसैनिक अभ्यास ‘समुद्र लक्ष्मण’ का हिस्सा है। जहाज का पोर्ट क्लैंग की यात्रा का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करना, भारतीय नौसेना और रॉयल मलेशियाई नौसेना (आरएमएन) के बीच समुद्री सहयोग और अंतर संचालन को बढ़ाना है।