नई दिल्ली। ट्विटर और मेटा जैसी बड़ी कंपनियों के बाद अब दिग्‍गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन 18,000 से ज्यादा कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है। अमेज़ॉन के सीईओ एंडी जेसी (Andy Jassy) ने बुधवार को खुद इस बात की जानकारी दी है। बीते कुछ सालों में अमेज़ॉन ने बड़ी संख्या में कर्मचारियों की भर्ती की थी लेकिन अब मंदी की आशंकाओं के बीच कर्मचारियों को कम किया जा रहा है।

पहले कंपनी ने 10 हजार कर्मचारियों को निकालने की बात कही थी। लेकिन, अब उसे बढ़ाकर करीब दोगुना करने का प्‍लान बनाया है। इस बार कंपनी के सीईओ ने खुद सामने आकर यह बात कही और लागत घटाने के लिए करीब 18 हजार कर्मचारियों की छंटनी का ऐलान किया है। अमेजन में अब सबसे बड़ी छंटनी (biggest layoff) देखने को मिल सकती है।

एंडी जेसी ने कहा है कि कारोबार पर हुए असर के बीच कंपनी की लागत घटाने के लिए छंटनी जरूरी हो गई है। जिन कर्मचारियों को नौकरी से निकाला जाएगा उन्हें 18 जनवरी से जानकारी दे दी जाएगी। अमेजन में वर्तमान में 3 लाख से ज्यादा कॉर्पोरेट कर्मचारी हैं। इस छंटनी का अर्थ है कि मौजूदा कर्मचारियों में से लगभग 6% की कटौती की जाएगी।

Also Read – Alia Bhatt Daughter: फैंस का इंतजार हुआ खत्म, पहली बार सामने आई Raha Kapoor से जुड़ी डिटेल!

जानकारी के लिए आपको बता दे की अमेज़ॉन के पास सितंबर के अंत तक 15 लाख से ज्यादा कर्मचारी थे, जो इसे सबसे बड़े अमेरिकी एम्प्लॉयर्स में से एक बनाता है। अमेज़ॉन इनती बड़ी छंटनी की शुरुआत करने वाली नवीनतम बड़ी आईटी कंपनी (latest big it company) है। माना जा रहा है कि कंपनी के ग्राहकों ने अपना खर्च बढ़ने के कारण उसमें कटौती का फैसला किया है।

अमेज़ॉन के सीईओ एंडी जेसी (Amazon CEO Andy Jassy) ने कहा, हम छंटनी के बावजूद अपने कर्मचारियों की हरसंभव मदद के लिए तैयार हैं। जो लोग इस छंटनी से प्रभावित हुए हैं उन्हें हम एक सेपरेशन पेमेंट, ट्रांजीशनल हेल्थ इंश्योरेंस बेनिफिट और एक्सटर्नल जॉब प्लेसमेंट सपोर्ट दे रहे हैं। इन कटौतियों से प्रभावित लोगों के योगदान के लिए मैं बहुत आभारी हूं। उन्होंने आगे कहा कि अभी कंपनी काफी मुश्किलों से गुजर रही और बिजनेस पर छाए अनिश्चितता के बादल जब तक खत्‍म नहीं हो जाते, ऐसे कदम उठाए जाते रहेंगे।

दुनिया भर की टेक कंपनियों में छंटनी का दौर जारी है। गूगल (Google) कम से कम 10,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रहा है। कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के लिए गूगल अपना नया रेटिंग सिस्टम लाने वाला है। कंपनी काम करने के लिए कई यूनिट में रोबोट का इस्तेमाल को बढ़ावा दे रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कोरोना के दौरान कंपनी ने बड़ी संख्या में लोगों की भर्ती करते हुए नौकरी पर रख लिया था और अब कंपनी को अपना ये फैसला भारी पड़ता नजर आ रहा है।