देश की सबसे पुरानी कांग्रेस पार्टी इस समय भारत को जोड़ने के लिए भारत जोड़ो यात्रा पर है। यह यात्रा सांसद राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही है। फिलहाल यात्रा हिमाचल में प्रवेश कर गई है। प्रदेश के कांगड़ा में रैली को संबोधित करते हुए यात्रा की वजह बताई है कि, आखिर कांग्रेस पार्टी को भारत जोड़ो यात्रा करनी पड़ी।

बता दें, कांग्रेस की यात्रा लगभग अपने अंतिम पड़ाव पर है। वही यात्रा हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में राहुल गांधी ने कहा कि, देश में बेरोजगारी बढ़ रही है।

इस वजह से कांग्रेस को निकालना पड़ी यात्रा

राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि, ”संसद में बोलते समय हमारे माइक बंद कर दिए जाते थे। हम नोटबंदी, जीएसटी और अग्निपथ स्कीम पर कहते थे, लेकिन हमें दिखाया नहीं जाता था। न्यायपालिकों पर सरकार ने दवाब डाला। सीबीआई और ईडी भी दबाव बना रहे हैं। ऐसे में मैंने सोचा कि महंगाई और बेरोजगारी जैसे मुद्दे उठाने की जरूरत है। इसलिए हमने भारत जोड़ो यात्रा कन्याकुमारी से कश्मीर तक निकालने का फैसला किया।

Also Read : 5 घंटे पहले उड़ा विमान, 35 यात्रियों की बड़ी मुश्किलें, एयरलाइंस के अधिकारी ने दी सफाई

क्या रास्ता है?

राहुल गांधी ने कहा कि देश में नफरत-हिंसा का माहौल है। हम नफरत, महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ खड़ा होना चाहते हैं तो हमारे पास एक रास्ता था वो हिंदुस्तान के रास्ते पर निकलना। उन्होंने इसके अलावा कहा कि केंद्र सरकार की सभी नीतियों, नोटबंदी, जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) और कृषि विरोधी कानून का मकसद तीन-चार अरबपतियों को लाभ पहुंचाना है।

भारत जोड़ो यात्रा कहां-कहां पहुंची?

तमिलनाडु के कन्याकुमारी से सात सितंबर को शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा 30 जनवरी को श्रीनगर में संपन्न होगी, जहां राहुल गांधी जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराएंगे। यह यात्रा अब तक तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब से होकर गुजर चुकी है।