इंदौर। शहर में अत्याधुनिक स्मार्ट मीटर लगाने के लिए अगले चरण का कार्य दिसंबर से प्रारंभ किया जा रहा है। 15 दिसंबर से 1 लाख 32 हजार स्मार्ट मीटर और लगाए जाएंगे, ये स्मार्ट मीटर 57 चिन्हित फीडरों से संबंद्ध उपभोक्ताओं के यहां लगेंगे।

मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी इंदौर के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने बताया कि स्मार्ट मीटर योजना का प्रभावी संचालन किया जा रहा है। अगले क्रम में इंदौर शहर में 1 लाख 32 हजार स्मार्ट मीटर और लगाए जाएंगे। ये अत्याधुनिक सुविधाओं व संचार प्रणाली वाले मीटर 57 फीडरों से संबंधित उपभोक्ताओं के यहां निःशुल्क लगाए जाएंगे।

तोमर ने बताया कि इसके लिए प्रभावी तैयारी की जा रही है। संबंधित कंपनी और बिजली कंपनी की स्मार्ट मीटर टीम को इस संबंध में निर्देशित किया गया है। श्री तोमर ने बताया कि मीटरों के प्रत्येक लॉट में से चुनिंदा मीटर नेशनल एक्रेडिएशन बोर्ड फार टेस्टिंग एंड कॉलिब्रेशन लेबोरेटरी (NABL) मान्यता प्राप्त बिजली कंपनी की अत्याधुनिक लेब में टेस्ट होंगे। यह लेब पोलोग्राउंड इंदौर में ही बिजली कंपनी ने तैयार की है। इसी के साथ ही शत-प्रतिशत टेस्टेड मीटर ही उपभोक्ताओं के यहां लगाए जाएंगे।

Also Read : Indore : कलेक्टर इलैयाराजा ने कार्यालयों में स्वच्छता को लेकर दिए विशेष निर्देश

प्रबंध निदेशक तोमर ने बताया कि इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए मुख्य अभियंता एसआर बमनके, अधीक्षण अभियंता स्मार्ट मीटर सेल डीएस चौहान, अधीक्षण अभियंता इंदौर शहर वृत्त मनोज शर्मा, कंट्रोल सेंटर प्रभारी नवीन गुप्ता को दी गई है। प्रबंध निदेशक तोमर ने बताया कि इससे पहले विभिन्न चरणों में इंदौर शहर में लगभग 1.40 लाख स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके है। इनका ऊर्जा विभाग, बिजली कंपनी की प्राथमिकताओं और उपभोक्ताओं के लिए हाईटेक सुविधाओं के हिसाब से परिणाम अच्छा रहा है।

स्मार्ट मीटर से ये होंगे फायदे

निःशुल्क लगाए जाने वाले स्मार्ट मीटर पावर फैक्टर छूट के लिए रिपोर्ट देगा, इसके लिए पात्र उपभोक्ता एक रूपए यूनिट तक छूट प्राप्त कर सकता है। साथ ही स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के एप पर लाइव देखा जा सकेगा, रूफ टॉप सोलर एनर्जी के लिए एक ही मीटर से बिजली लेने-देने दोनों कार्य की गणना स्वतः हो जाएगी। मीटर रीडिंग स्वतः हो जाएगी, बिल भी समय पर मिलेगा। रीडिंग एवं बिलिंग के विवादों से मुक्ति मिलेगी।