इंदौर : प्रधानमंत्री मोदी के 2025 तक राष्ट्र को टीबी (क्षय) मुक्त कराने के संकल्प के समर्थन में सुशीलादेवी उमरावसिंह पटेल सेवा संस्थान सामने आया है. संस्थान ने खरगोन-बड़वानी जिले के समस्त क्षय रोगियों को अपनाने की पहल करते हुए समाज के साथ उनके पोषण आहार वितरण कार्य करने का संकल्प लिया है।

Read More : Huma Qureshi ने 36 की उम्र में उड़ाए होश, पहले नहीं देखा होगा इतना बोल्ड लुक

इस कार्य की शुरुआत पर सांसद गजेन्द्रसिंह पटेल ने कहा “मैंने माननीय प्रधानमंत्रीजी के सेवा पखवाड़ा कार्यक्रम के अंतर्गत ‘टीबी मुक्त भारत अभियान’ का लक्ष्य लेकर नि-क्षय मित्र बनकर कार्य करने का संकल्प लिया है। सांसद  गजेन्द्रसिंह पटेल खरगोन-बड़वानी लोकसभा संसदीय क्षेत्र के बड़वानी जिले के 1141 एवं खरगोन जिले के 1617 यानि कुल 2758 टीबी मरीजों के नि-क्षय मित्र बने है। नि-क्षय मित्र बनकर व्यक्ति या संस्था टीबी मरीजों को या तो राशि दे सकते है या उन्हे सामान दे सकते है।

Read More : Indore : MPCA के भ्रष्ट रोहित पंडित ने की नियमों की अवहेलना, सबूत आने के बाद सिंधिया क्यों हैं ख़ामोश

पटेल ने संस्थान के बारे में बताया कि सुशीलादेवी उमरावसिंह पटेल सेवा संस्थान का गठन मेरी माताजी – सुशीला देवी उमरावसिंह पटेल की स्मृति में समाज के सभी वर्गों के लिए कार्य करने के उद्देश्य के साथ किया गया है। उन्होंने आजीवन समाज की चिंता की और वे आज हमारे लिए प्रेरणा स्त्रोत बनी हुई हैं।

Source : PR