दिवाली पर ही क्यों बनाते है रांगोली, जानिए इसका महत्व और साफ करने का सही तरीका

0
110
rangoli

दिवाली आते ही बाजारों से लेकर हर जगह रौनक बड़ जाती हैं वहीं दिवाली से पहले अक्सर लड़कियां रांगोली कि तैयारियां भी शुरू कर देती है। रांगोली वैसे तो सभी त्योहारों पर बनाई जाती है लेकिन दिवाली पर खास कर इसका महत्व और भी ज्यादा हो जाता है। रंगोली को लेकर कई सारी मान्यताएं भी शास्त्रों में बताई गई हैं। जैसे कि कहा जाता है कि इसे बनाने से घर में सकरात्मक ऊर्जा फैलती है और नकरात्मकता बाहर ही रहती है।

जानकार कहते हैं कि रंगोली बनाते वक्त मस्तिष्क के अधिक क्रियाशील होने से तनाव दूर हो जाता है। इसी तरह रंगोली बनाने के दौरान अंगुली और अंगूठा मिलकर ज्ञानमुद्रा बनाते हैं, वह मस्तिष्क को ऊर्जावान और सक्रिय बनाती है। दीपावली पर लक्ष्मीजी की पूजा में रंग-बिरंगी रोशनी, सजावट और पटाखे जैसी चीजें तो माहौल को खुशनुमा बनाती ही हैं, लेकिन रंगोली भी इस त्योहार को खुशनुमा बनाने में अहम भूमिका अदा करती है।

भारत में रंगोली की शुरूआत मोहनजोदड़ो और हड़प्पा सभ्यता में मिलता है। लोक मान्यता के आधार पर जब रावण का वध करके भगवान श्रीराम माता सीता के साथ 14 वर्षों का वनवास काट अयोध्या वापस आए, तब अयोध्यावासियों ने पूरी अयोध्या को दीपक तथा रंगोली से सजाया था। तब से ही प्रत्येक वर्ष दीपावली पर रंगोली बनाने का रिवाज शुरू हुआ जिसे आज तक लोग परंपरागत बनाते आ रहे है।

ऐसे साफ करें रांगोली को

मान्यता है कि रंगोली घर में सकारात्मक ऊर्जा को लाती है और उसे बाहर नहीं निकलने देती। वास्तु के अनुसार घर में रंगोली बनाने से मां लक्ष्मी बेहद प्रसन्न होती हैं और उनकी कृपा हमेशा बनी रहती है। रंगोली को हटाने के नियम भी होते हैं। रंगोली को झाडू या कपड़े से पोछना शुभ नहीं माना जाता है। वास्तु के अनुसार रंगोली को जल की सहायता से हटाया जाना चाहिए, क्योंकि हिंदू धर्म में जल पवित्र कार्यों के लिए प्रयोग में लाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here