CM Mamata

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनाव में करीब 5 माह का समय शेष है, हालांकि प्रदेश में सियासत अपने चरम पर है. सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी और भारतीय जनता पार्टी एक-दूसरे पर लगातार हमलावर है. बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने एक बार फिर भाजपा के साथ ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ यानी कि RSS पर भी निशाना साधा है. बीते दिनों उन्होंने कहा था कि हम RSS वाले हिन्दू धर्म को नहीं मानते हैं. जबकि अब एक बहार फिर उन्होंने इसे दोहराया है. बुधवार को RSS को लेकर ममता ने कहा कि, ‘हम RSS के हिंदू धर्म को नहीं मानते हैं और हम किसी के आगे झुकने वाले नहीं हैं.’ बता दें कि ममता ने यह बयान पश्चिम बंगाल के कोचनर में आयोजि कन्वेंशन ईवेंट के दौरान दिया है. वहीं भाजपा को लेकर उन्होंने कहा कि, हम उनके साथ शांति से युद्ध करेंगे और किसी की गुंडागर्दी बंगाल में नहीं चलेगी.

ममता ने आगेभाजपा पर आरोप लगते हुए कहा कि, ‘भाजपा नेताओं का साहस देखिए कि वे हमारी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुब्रत बक्शी को भगवा पार्टी में शामिल होने के लिए कहते हैं. भाजपा राजनीतिक शिष्टाचार नहीं जानती, उसकी कोई विचारधारा नहीं है. (तृणमूल कांग्रेस में) एक-दो अवसरवादी हैं जो उनके फायदे के लिए काम कर रहे हैं.’

कैलाश विजयवर्गीय का पलटवार…

ममता बनर्जी के बाद कैलाश विजयवर्गीय ने इस पर जोरदार पलटवार किया है. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि, ‘ममता बनर्जी के नेतृत्व में बंगाल में चुनाव डर और आतंक के माहौल में होंगे. बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगे, नहीं तो चुनाव आयोग जिम्मेदारी ले कि बंगाल में निर्भीकता से चुनाव हों. राज्य शासन की मशीनरी का उपयोग चुनाव में न हो. केंद्रीय मशीनरी चुनाव करवाए.’

सुवेंदु अधिकारी ने विधायक पद भी छोड़ा…

बीते दिनों सुवेंदु अधिकारी ने पश्चिम बंगाल के परिवहन मंत्री का पद छोड़ा था, जबकि आज शाम उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के विधायक पद से भी त्याग पत्र दे दिया है. भारतीय जनता पार्टी ने उनके इस फ़ैसले का स्वागत किया है. बता दें कि जब सुवेंदु ने मंत्री पद छोड़ा था तब से लेकर लगातार उनके भाजपा में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे हैं. हाल ही में एक बार फिर ख़बर आई है कि अधिकारी शनिवार को भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम सकते हैं.