उज्जैन में चाइना डोर की वजह से इस बार मकरसंक्रांति के पहले ही कई लोग हादसे का शिकार हो चुके है जिसको लेकर अब सरकार कड़े कदम उठा रही है मध्यप्रदेश में यह पहला मौका है जब चाइनीज मांझे को लेकर पुलिस ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है. पुलिस उन इलाकों में मुनादी तक पिटवा रही है, जहां पर बड़ी संख्या में पतंग बाज रहते हैं. पुलिस स्लोगन के माध्यम से भी लोगों को चाइनीज मांजे से दूर रहने की अपील करती नजर आ रही है. चाइनीज मांझे से लगातार हो रही घटनाओं को लेकर उज्जैन पुलिस ने लोगों को जन जागरूकता के लिए बड़ा अभियान छेड़ दिया है.

इलाको में पिटवाई जा रही मुनादी

महाकाल थाना क्षेत्र के उन इलाकों में मुनादी तक पिटवाई जा रही है, जहां पर बड़ी संख्या में पतंग उड़ाई जाती है. उज्जैन एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने बताया कि अलग-अलग स्लोगन के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है. इसके अलावा शपथ भी दिलाई जा रही है. चाइनीज मांझे की वजह से लोगों को नुकसान पहुंचता है. इसके अलावा पक्षी भी घायल हो जाते हैं.

यही वजह है कि इस बार चाइनीज मांझे को लेकर सख्ती से पालन कराया जा रहा है. पुलिस द्वारा ड्रोन से भी नजर रखी जा रही है. इसके अतिरिक्त उज्जैन में ही चाइनीज मांझे के क्रय-विक्रय और उपयोग को लेकर अभी तक एक दर्जन मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं. इस मामले को लेकर 3 लोगों के मकान भी तोड़े जा चुके हैं.

चाइनीज मांझे को लेकर उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने दिसंबर माह में ही आदेश जारी कर दिया था. जिसका तहत चाइनीज मांझा के क्रय विक्रय उपयोग को लेकर प्रतिबंध लगाते हुए धारा 188 के तहत कार्रवाई करने की बात कही गई थी. इसके बावजूद लगातार चाइनीज मांझे का उपयोग सामने आ रहा था. प्रतिबंध और सख्ती के बाद पिछले 4 दिनों में चाइनीज मांझे से 3 लोग घायल होकर अस्पताल पहुंच चुके हैं. इसके बाद पुलिस ने और सख्त कदम उठाए हैं. इसके अलावा जागरूकता अभियान भी चला दिया है.