Tithi: आज है चैत्र कृष्ण द्वितीया तिथि, इन बातों का रखें ध्यान

आज रविवार, चैत्र कृष्ण द्वितीया तिथि है। आज चित्रा नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है

आज रविवार, चैत्र कृष्ण द्वितीया तिथि है।
आज चित्रा नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है
-( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

-चतुर्थी व्रत कल सोमवार को है।
-पञ्च नदी – गङ्गा, यमुना, सरस्वती, गोदावरी और नर्मदा – यह पॉंच मुख्य नदियॉं हैं।
-पञ्चपल्लव – पीपल, गूलर, अशोक, आम और वट – इनके पत्ते पञ्च पल्लव हैं।
-पञ्चपुष्प – चमेली, आम, शमी (खेजड़ा), पद्म (कमल) और करवीर (कनेर) के पुष्प पञ्चपुष्प हैं।
-पञ्च गन्ध – चूर्ण किया हुआ, घिसा हुआ, दाह से खींचा हुआ, रस से मथा हुआ और प्राणी के अङ्ग से पैदा हुआ (कस्तूरी) – यह पञ्चगन्ध हैं।
-पञ्चगव्य – ताम्बे के वर्ण जैसी गो का मूत्र, लाल गाय का गोबर, सफेद गाय का दूध, काली गाय के दूध का दही, नीली (काली) गाय के दूध का घी – यह पञ्चगव्य है।
-पञ्चामृत – गो के दूध, दही और घी में चीनी और शहद मिलाकर पञ्चामृत बनता है।
-पञ्चरत्न – सोना, हीरा, नीलमणि, पद्मराग और मोती – यह पॉंच रत्न हैं।
-पञ्चाङ्ग – तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण का ज्ञापक है। इससे व्रत आदि निश्चय होते हैं।
– षट्कर्म – स्नान, सन्ध्या – जप, होम, पठन-पाठन, देवार्चन और वैश्वदेव तथा अतिथि सत्कार – यह छह कर्म हैं।
-सप्त गोत्र – पिता, माता, पत्नी, बहिन, पुत्री, फूफा और मौसी – यह सात गोत्र ( कुटुम्ब) हैं।
-सप्तधान्य – जौ, गेहूॅं, धान, तिल, कॉंगनी, श्यामाक (सावॉं) और देवधान्य – यह सप्तधान्य हैं।
-सप्तधातु – सोना, चॉंदी, ताम्बा, ऑरकुट, लोहा, रॉंगा और सीसा – यह सप्तधातु हैं।