दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश चीन माना जाता है 2019 में शुरू हुई कोरोना महामारी के बाद से ही चीन एक महत्वपूर्ण क्षण में पहुंच गया है। 2019 में कोरोना की वजह से चीन के साथ ही पुरे विश्व ने मौत का भयानक तांडव देखा था जिससे अब विश्व के साथ साथ चीन की आबादी में गिरावट शुरू हो गई है। चीन के जन्म दर में वर्षों तक लगातार गिरावट के बाद विशेषज्ञों का कहना है कि यह अपरिवर्तनीय होगा। सरकार ने मंगलवार को कहा कि चीन में 2022 में 95.6 लाख लोगों का जन्म हुआ, जबकि 104.1 लाख लोगों की मौत हुई। 1960 के दशक की शुरुआत के बाद से यह पहली बार है जब मौतों की संख्या चीन में जन्म से ज्यादा हुई है।

2023 के अंत तक क्या भारत बनेगा दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश ?

1961 के बाद पहली बार चीन की जनसंख्या में कमी आई है। वहीं भारत 2023 में दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन सकता है। चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने बताया कि 2022 के अंत में देश में 1.41175 बिलियन लोग थे जबकि 2021 के अंत में 1.41260 बिलियन थे। पिछले वर्ष की जन्म दर प्रति 1,000 लोगों पर 6.77 जन्म थी, जो 2021 में 7.52 जन्म की दर से कम है। यह रिकॉर्ड पर सबसे कम जन्म दर है। चीन ने 1976 के बाद से अपनी सबसे ज्यादा मृत्यु दर भी दर्ज की है। प्रति 1,000 लोगों पर 2021 में 7.18 मौतों की दर की तुलना में 2022 में 7.37 मौतें दर्ज की गईं। चीन में यह लगातार छठा वर्ष है, जब जन्म दर में गिरावट आई है।

विशेषज्ञों ने कहा कि यह गिरावट चीन को एक जनसांख्यिकीय संकट में डाल रही है, जिसके परिणाम न केवल चीन और इसकी अर्थव्यवस्था के लिए बल्कि दुनिया के लिए भी इस सदी में दिखेंगे।इरविन में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र के एक प्रोफेसर वांग फेंग ने कहा, लंबे समय में हम एक ऐसा चीन देखने जा रहे हैं जिसे दुनिया ने कभी नहीं देखा है। यहां अब युवा, जीवंत, बढ़ती आबादी नहीं होगी। हम एक पुरानी और सिकुड़ती आबादी के रूप में चीन की आबादी की सराहना करना शुरू कर देंगे।

2016 से ही चल रहा प्रयास

2035 तक चीन में 400 मिलियन लोगों के 60 वर्ष से अधिक उम्र के होने की उम्मीद है, जो इसकी आबादी का लगभग एक-तिहाई है। अधिकारियों ने जन्म में गिरावट को धीमा करने की कोशिश करने के लिए कदम उठाए हैं। 2016 में उन्होंने 35 साल से चली आ रही एक-बच्चे की नीति में ढील दी, जिससे परिवारों को दो बच्चे पैदा करने की अनुमति मिली। 2021 में उन्होंने सीमा बढ़ाकर तीन कर दी। तब से चीन ने कपल्स और छोटे परिवारों को बच्चे पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए प्रोत्साहन राशि, टैक्स में कटौती और यहां तक ​​कि संपत्ति रियायतें भी दी हैं।

Also Read – School Holiday Alert : बढ़ती ठण्ड को देखते हुए फिर से बंद होंगे स्कूल, सरकार ने किया ऐलान, जानें पूरी अपडेट