बीते दिन पतंजलि योगपीठ के मुख्य परिसर के अंदर कोरोना वायरस के मामलों की खबर सुर्ख़ियों में थी। कहा जा रहा था कि पतंजलि योगपीठ में कई कर्मचारी संक्रमित है। लेकिन अब इस खबर को गलत बताया जा रहा है। इसको लेकर खुद राम देव बाबा का बयान सामने आया है। बताया जा रहा है कि राम देव बाबा ने जानकारी देते हुए कहा है कि आईपीडी में आए नए मरीज और आचार्यकुलम में आए नए छात्रों को प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड-19 के लिए परीक्षण किया गया था।

इसमें से 14 आगंतुकों सकारात्मक पाए गए। जिसकी वजह से इन मरीजों को मुख्य परिसर के अंदर जाने की अनुमति नहीं थी। इन लोगों को मुख्य कैंपस के बाहर ही रोक दिया गया था और उनके इलाज की व्यवस्था की गई। राम देव बाबा ने बताया कि पतंजलि में कोई भी व्यक्ति कोरोनोवायरस से संक्रमित नहीं है। जो नए मरीज आईपीडी में आए और नए छात्र जो आचार्यकुलम में प्रवेश के लिए आए थे, हमने उन्हें सीओवीआईडी प्रोटोकॉल के एसओपी के तहत परीक्षण कराया।

केवल 14 आगंतुक सकारात्मक थे और उन्हें अंदर जाने की अनुमति नहीं थी। वहीं सभी रिपोर्ट अफवाहें और झूठ हैं। मैं नियमित रूप से रोजाना सुबह 5 से 10 बजे तक योग और स्वास्थ्य के लाइव कार्यक्रम कर रहा हूं। गौरतलब है कि बीते दिन देहरादून में ही 1605 कोरोना संक्रमित मरीज मिले। वहीं हरिद्वार में 1115 नए केस मिले हैं। दरअसल, बीते कल हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ में 83 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की खबर आई थी। जिसके बाद आज खबर सामने आई है कि ये अफवाह थी।