शेयर बाजार : सेंसेक्स के शेयरों में महिंद्रा एंड महिंद्रा ने दिखाई सबसे ज्यादा मजबूती, 6.15 प्रतिशत रहा उछाल

महिंद्रा एंड महिंद्रा कम्पनी का शेयर 6.15 प्रतिशत रहा उछाल के साथ बंद हुआ, जोकि सेंसेक्स के शेयरों में सबसे बड़ी मजबूती हासिल करने वाले शेयर के रूप में दर्ज किया गया है। कल सोमवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स 545 अंक से ज्‍यादा उछलकर बंद हुआ।

बीते कुछ दिनों से महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra and Mahindra) कम्पनी का शेयर काफी मजबूती दिखा रहा है। कल भी महिंद्रा एंड महिंद्रा कम्पनी का शेयर 6.15 प्रतिशत रहा उछाल के साथ बंद हुआ, जोकि सेंसेक्स के शेयरों में सबसे बड़ी मजबूती हासिल करने वाले शेयर के रूप में दर्ज किया गया है। कल सोमवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स 545 अंक से ज्‍यादा उछलकर बंद हुआ। जोकि कम्पनी का तीन महीने के उच्चतम स्तर है । इसके साथ ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी भी 1.06 प्रतिशत की तेजी से 181.80 अंक बढ़कर 17,340.05 अंक पर बंद हुआ।

Also Read-व्रत और त्यौहार : आज दे रहे हैं महाकाल मंदिर में दर्शन नागचन्द्रेश्वर, वर्ष में केवल नागपंचमी पर खुलते हैं कपाट

इन कंपनियों में भी दिखी मजबूती

वैश्विक और भारतीय घरेलू शेयर बाजार में जारी आर्थिक असमंजस के बीच कई नामी कंपनियां अपने निवेशकों को फायदा देने में अक्षम साबित हो रही हैं, वहीं इस विपरीत दौर में भी कुछ कंपनियां अपने निवेशकों की चांदी कर रही हैं। जहां महिंद्रा एन्ड महिंद्रा का शेयर कल सबसे ज्यादा मजबूती के साथ बंद हुआ वहीं अन्य कम्पनिया जिनके शेयर्स की कीमत में मजबूती दिखी है उनमें एनटीपीसी, पावरग्रिड, मारुति सुजुकी इंडिया, कोटक महिंद्रा बैंक और अल्ट्राटेक सीमेंट आदि प्रमुख हैं।

Also Read-सर्किट हाउस पर मुख्यमंत्री ने की पत्रकारों से चर्चा, उज्जैन को दी ये सौगात

इन कंपनियों के शेयर में हैं मंदी के आसार

भारतीय घरेलू शेयर बाजार के जानकार जिन कंपनियों में मंदी के आसार देख रहे हैं उनमें एनओसीआईएल, ब्लू स्टार यूनाइटेड ब्रुअरीज, पिरामल एंटरप्राइजेज, त्रिवेणी इंजीनियरिंग आदि कंपनियां प्रमुख हैं। इनमें से कुछ कंपनियां पूर्व में अपने निवेशकों को लाभ पहुंचा चुकी हैं परन्तु वर्तमान समय में शेयर बाजार की मंदी का असर इन कंपनियों पर देखने को मिल रहा है। शेयर बाजार के एक्सपर्ट्स की माने तो अभी इन कंपनियों के शेयर्स में निवेश अक्लमंदी नहीं होगी जिससे निवेशकों को बचना चाहिए।