राहुल-प्रियंका के ‘तरीके’ से सोनिया नाराज … अब युवाओं की जगह बुजुर्गों को मौका देना चाहती हैं

0
125

नई दिल्ली। सोनिया गांधी ने तय किया है कि पार्टी के बुजुर्गों को फिर से आगे किया जाए। राहुल, प्रियंका का ‘युवा’ वाला फॉर्मूला फेल होता दिख रहा है। बुजुर्ग नेताओं के पंद्रह साल का कामकाज देखना चाहती हैं। मध्यप्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र और पंजाब के पुराने दिग्गजों की लिस्ट और जमीनी रिपोर्ट मंगाई है।इन दिनों राहुल गांधी भी पार्टी की बैठकों से नदारद हैं। पूरा काम सोनिया ने संभाल लिया है।

खींचतान से सोनिया गुस्सा
मध्यप्रदेश और पंजाब में हुई खींचतान से सोनिया गुस्सा हैं। पुराने फॉर्मूले पर काम करना चाहती हैं। नई टीम बनाने की जिम्मेदारी अहमद पटेल को सौंपी गई है। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए भी चौंकाने वाला नाम सामने आ सकता है। महाराष्ट्र में हुई गुटबाजी के बाद बड़े नेताओं का पार्टी छोडऩा सोनिया को रास नहीं आ रहा है। यहां मिलिंद देवड़ा की जगह एकनाथ गायकवाड़ को काम सौंपा है। पंजाब की जिम्मेदारी सुनील जाखड़ को दोबारा दी जा सकती है। इसकी वजह उनके पिता बलराम जाखड़ का तजुर्बा है।

सिंधिया-पायलेट को झटका
सोनिया के दोबारा एक्शन में आने के बाद माहौल बदल गया है। जो जवान नेता खुद को औरों से अच्छा बता रहे थे, उन्हें तलब किया जाएगा। पिछले एक दशक में पार्टी के कमजोर पडऩे की सफाई उन्हें ही देना है। सोनिया की इस नई मुहिम के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट को तगड़ा झटका लग सकता है। राजस्थान में अशोक गेहलोत को सीएम बनाने का फैसला भी सोनिया गांधी का ही था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here