दिल्ली पुलिस ने श्रद्धा मर्डर केस में अबतक कई जगहों पर छानबीन कर चुकी है। इसी के साथ कई खुलासे भी किए। लेकिन इन सबूतों के आधार पर आरोपी आफताब पूनावाला को सजा नहीं दिलाई जा सकती है। वही आज यानि शनिवार को दिल्ली के अंबेडकर अस्पताल में कोर्ट लगाकर आरोपी आफताब को 13 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

स्पेशल सीपी लॉ & ऑर्डर सगरप्रीत हुडा ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि, दिल्ली पुलिस ने मजिस्ट्रेट से रिक्वेस्ट की थी कि अंबेडकर अस्पताल में ही कोर्ट लगाई जाए।

नया ठिकाना तिहाड़

दरअसल दिल्ली पुलिस की टीम आफताब को नार्को टेस्ट से पहले की प्रक्रिया के लिए अंबेडकर अस्पताल लेकर गई थी। इसी दौरान उसकी शनिवार, 26 नवम्बर 2022 को कोर्ट में पेशी हुई और कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद आफताब को 13 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अब आफताब का नया ठिकाना तिहाड़ जेल होगा।

केस सुलझाने में एड़ी से चोटी का जोर

श्रद्धा मर्डर केस की मिस्ट्री अब भी उलझी हुई है। भले ही आरोपी आफताब ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कुबूल कर लिया है लेकिन अभी कई ऐसे सवाल हैं जो पुलिस के लिए टेढ़ी खीर बने हुए हैं। दिल्ली पुलिस के हाथ अभी ऐसे सबूत नहीं लगे हैं जिनसे वह कोर्ट में आफताब को दोषी सिद्ध कर सके।

दिल्ली पुलिस ने आशंका जताई है कि श्रद्धा का मर्डर दिल्ली में हुआ है लेकिन पूरी साजिश हिमाचल में रची गई। इस मामले को सुलझाने के लिए दिल्ली पुलिस पांच राज्यों में जांच कर रही है। पुलिस मुंबई में श्रद्धा और आफताब के करीबियों से भी पूछताछ कर रही है। इधर, गुरुग्राम में भी पुलिस कई बार श्रद्धा की हत्या में इस्तेमाल किए गए हथियारों की तलाश कर चुकी है।

शव के 35 टुकड़े किए

गौरतलब है कि, इस केस में आए दिन नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं। आफताब ने पूछताछ में बताया कि उसने श्रद्धा की हत्या कर शव के 35 टुकड़े किए। जिसके बाद, शव के टुकड़ों को महरौली के जंगलों में फेंका। अफताब की ओर से बताई गई जगहों पर पुलिस ने तलाशी अभियान चलाया लेकिन और ज्यादा पुख्ता सबूतों की अभी तलाश है।