स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई छू रहा सफलता के आयाम, भविष्य में मरीजों को मिलेंगे कई लाभ

स्कूल ऑॅफ एक्सीलेंस फॉर आई चिकित्सालय में ओपीडी की सेवा प्रारंभ की गई थी। हमें यह बताते हुए बेहद खुषी है की ओपीडी के प्रारंभ सेे लेकर अब तक अधिक से अधिक नेत्र रोगी परीक्षण का लाभ उठा चुके है।

म.गॉ.स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय इन्दौर से सम्बध्द नेत्र चिकित्सालय स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई, अब अपनी गति के साथ काम शुरू करने लगा है। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा केे निर्देशन में अधिष्ठाता डॉ. संजय दीक्षित के नेतृत्व में स्कूल ऑॅफ एक्सीलेंस फॉर आई चिकित्सालय में ओपीडी की सेवा प्रारंभ की गई थी। हमें यह बताते हुए बेहद खुषी है की ओपीडी के प्रारंभ सेे लेकर अब तक अधिक से अधिक नेत्र रोगी परीक्षण का लाभ उठा चुके है।

मंगलवार को हुुई यह अहम सर्जरी, रोेषनी के साथ चेहरेे पर मुुस्कुराहट लेकर लौटे मरीज

मध्यप्रदेष शासन द्वारा स्थापित अत्याधुनिक नेत्र चिकित्सा के लिए स्कूल ऑफ एक्सीेलेंस फॉर आई संस्थान विविध नेत्र रोगों के उपचार एवं शल्यक्रिया हेतु स्थापित किया गया है। धीरे-धीरे कदम बढाते हुुए यह अस्पताल अब अपनी उचित गति से चलायममान हो रहा है। अस्पताल के अधीक्षक,डॉ. डी.के. शर्मा ने बताया गया कि स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई, में बुधवार कोे भेंगापन (तिरछेपन) स्क्वींट की आक्युलोप्लास्टी की जटिल शल्यक्रिया सम्पन्न की गई। यास्मीन मंसूरी नामक 20 वर्षीय युवती बचपन से ही इस व्याधि से ग्र्रसित थी, आंखों के तिरछेपन के कारण यास्मीन की दृष्टि बांधित हो रही थी इसे तकनीकी भाषा में लेजी आई कहते है। इस व्याधी के कारण नेेत्र तिरछेपन के कारण शक्ल असामान्य प्रतीत होती थी और यास्मीन को सामाजिक तिरस्कार का सामना भी करना पढ़ता था।

Must Read- Indore: थाना प्रभारी व टीम एवं सामाजिक कार्यकर्ता की मेहनत लाई रंग, बुजुर्ग के परिवारजनों का पता लगाकर सुरक्षित पहुँचाया घर

यास्मीन की सर्जरी जानी मानी अनुभवी प्रोफेसर डॉ. आभा वर्मा एवं के.जी.एम.सी लखनऊ से प्रषिक्षित सहायक प्रोफेसर डॉ. हिना भंडारी द्वारा निष्चेतना विभागाध्यक्ष डॉ. के.के. अरोरा डॉ शालिनी जैन की टीम के सहयोग से संम्पन्न की गई। इस किस्म की सौन्दर्य शल्यचिकित्सा में लगभग अनुमानित खर्च 60,000 रूपये आता है। यह आपरेषन स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई, में फिलहाल पूर्णतः निःषुल्क संपादित किया गया हैं। भविष्य में अस्पताल सामान्य मरीजों को बेहद कम शुल्क पर एंव आयुष्मान मरीजों को निशुल्क शल्य चिकित्सा उपलब्ध करानेे के लिए प्रतिबध्द है। स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई नेत्र चिकित्सालय के चिकित्सकों द्वारा किए जा रहे कार्यो के लिए संभागायुुक्त डॉ पवन कुमार शर्मा ने शुभकामनांए दी है। अधिष्ठाता डॉ संजय दीक्षित ने बताया स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई को देेष का उत्कृष्ट नेत्र चिकित्सालय बनाने का हर संभव प्रयास करेंगे।

डॉ.डी के शर्मा, अधीक्षक (स्कूल ऑफ एक्सीलेंस फॉर आई)