मालवांचल यूनिवर्सिटी द्वारा सत्येंद्र सिंह लोहिया का सम्मान, विकलांगता के बाद भी समुद्र और नदियों को पार कर बने विजेता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलना मेरे जीवन का सबसे अद्भुत क्षण रहा जो मैं कभी भूल नहीं सकता हूं। मैंने पहले कैटलीना चैनल को 11 घण्टे 34 मिनट मे पार करने का भी कारनामा कर सका हूं। टीम के साथ इस चैनल को पार करने वाले पहले एशियाई तैराक बन सका।

इंदौर। सत्येंद्र सिंह लोहिया पैरा स्विमर इससे पहले दुनिया की सबसे मुश्किल चैनल मानी जाने वाली इंग्लिश चैनल पार कर चुके हैं. भिंड के इस पैरा स्विमर के नाम उपलब्धियों और सफलता का लंबा सफर है. उन्होंने आज ये सफलता हासिल करने के बाद संदेश दिया कि विकलांगता शारीरिक नहीं होती बल्कि कुछ लोगों की बुरी सोच है। अब सितंबर महीने में आईलैंड नार्थ चैनल स्विमिंग में फिर से एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्विमिंग के लिए आईलैंड जा रहे है। मालवांचल यूनिवर्सिटी में शनिवार को सत्येंद्र सिंह लोहिया का सम्मान किया गया। इंडेक्स समूह के चेयरमैन सुरेशसिंह भदौरिया ने उन्हें प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए सम्मान राशि का चेक भी प्रदान किया। भदौरिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मप्र सरकार खेल प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने में मदद करती है। इंडेक्स समूह का दायित्व है कि हम सत्येंद्र सिंह लोहिया जैसी हमारे मप्र की प्रतिभा की सम्मान के साथ उन्हें मदद भी कर सके।

Must Read- इंडेक्स डिपार्टमेंट आफ फिजियोथैरेपी एंड पैरामेडिकल साइंसेस में 29 और 30 जून को इंटरनेशनल वर्कशॅाप का होगा आयोजन, इटली के डॅा. क्रिश्चियन विलेला देंगे प्रशिक्षण

गांव से इंटरनेशनल प्रतियोगिया का सफर मुश्किलों भरा

सत्येंद्र सिंह लोहिया ने कहा कि इंडेक्स समूह और माउंट लिट्रा जी स्कूल कई प्रतियोगिया में सम्मान के साथ मेरे मददगार के रूप में खड़ा रहा है। मध्यप्रदेश के भिंड जिले के ग्राम गाता के रहने वाले हैं. उन्होंने अपना शुरुआती करियर बेहद संघर्षों में बिताया है। मध्य प्रदेश के पहले दिव्यांग हूं जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने प्रदेश का नाम रोशन कर सका। अभी तक करियर में सात नेशनल पैरा तैराकी चैंपियनशिप में भाग लेकर 24 पदक प्रदेश के लिये हासिल कर चुका हूं। तीन अंतरराष्ट्रीय पैरा तैराकी चैंपियनशिप में देश के लिए एक गोल्ड मेडल के साथ 4 पदक हासिल किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलना मेरे जीवन का सबसे अद्भुत क्षण रहा जो मैं कभी भूल नहीं सकता हूं। मैंने पहले कैटलीना चैनल को 11 घण्टे 34 मिनट मे पार करने का भी कारनामा कर सका हूं। टीम के साथ इस चैनल को पार करने वाले पहले एशियाई तैराक बन सका।

वर्ष 2018 में इग्लैंड में स्थित इंग्लिश चैनल को 12 घण्टे 24 मिनट में तैरकर एशियाई लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज किया। अरब सागर में धरमतर जेट्टी से गेटवे ऑफ इंडिया मुंबई तक 36 कि.मी. की दूरी तैरकर 10 घंटे 3 मिनट में तय कर ली।अरब महासागर का यह हिस्सा विशेष रूप से शार्क से भरा हुआ है. इसलिए तैराकों के लिए चैनल पार करना अधिक साहसी और कठिन हो जाता है.अब सितंबर महीने में आईलैंड में पैरा स्विमिंग के लिए जा रहा हूं। इस अवसर पर इंडेक्स समूह के वाइस चेयरमैन मयंक राज सिंह भदौरिया, मालवांचल यूनिवर्सिटी के कुलपति एन के त्रिपाठी ,प्रो.वाइस चांसलर डॅा.राजगुलाम राजदान,रजिस्ट्रार डॅा.एम क्रिस्टोफर,इंडेक्स डायरेक्टर आर एस राणावत, एडिशनल डायरेक्टर आर सी यादव, मेडिकल कॅालेज डीन डॉ.जीएस पटेल,माउंट लिट्रा जी स्कूल के सीईओ रूपेश वर्मा,मेडिकल सुप्रिडेंटेंड लेफ्टिनेंट कर्नल डॉ.अजयसिंह ठाकुर, डिपार्टमेंट पैरामेडिकल प्राचार्य डॉ. रेशमा खुराना उपस्थित थे।

Source PR