27 साल में राजनीति में रखा कदम, 34 की उम्र में बन गईं प्रधानमंत्री

मरीन ने रविवार को हुआ मतदान जीतकर निवर्तमान नेता एंटी रिने का स्थान लिया, जिन्होंने डाक हड़ताल से निपटने को लेकर गठबंधन सहयोगी सेंटर पार्टी का विश्वास खोने के बाद मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था।

0
60
Sanna Marin

नई दिल्ली: प्रधनमंत्री पद पर पहुंचना आसान नहीं होता। कई चुनोतियों को पार करने के बाद ये पद हासिल होता है लेकिन फिनलैंड में 34 साल की महिला प्रधनमंत्री पद के लिए चुनी गई है। वर्तमान में वह दुनिया के किसी भी देश की सबसे कम उम्र की प्रधानमंत्री होंगी। फिलहाल वह फिनलैंड की ट्रांसपोर्ट मंत्री हैं। दरअसल, सना मरीन फिनलैंड में प्रधानमंत्री के पद के लिए चुनी गईं हैं।

मरीन ने रविवार रात को पत्रकारों से कहा, ‘हमें फिर से विश्वास बहाल करने के लिए काफी काम करना होगा।’ अपनी उम्र से संबंधी सवालों पर उन्होंने कहा, मैंने कभी अपनी उम्र या महिला होने के बारे में नहीं सोचा। मैं कुछ वजहों से राजनीति में आई और इन चीजों के लिए हमने मतदाताओं का विश्वास जीता। 27 साल की उम्र में ही मरीन ने राजनीति में कदम रख दिया था और उसी समय से तेजी से वृद्धि की।

मरीन ने रविवार को हुआ मतदान जीतकर निवर्तमान नेता एंटी रिने का स्थान लिया, जिन्होंने डाक हड़ताल से निपटने को लेकर गठबंधन सहयोगी सेंटर पार्टी का विश्वास खोने के बाद मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था।

एन्टी रिने को पीएम पद से इसलिए मंगलवार को इस्तीफा देना पड़ा क्योंकि गठबंधन सरकार में शामिल एक दल ने उन पर भरोसा करने से इनकार कर दिया। रिने पर आरोप थे कि उन्होंने पोस्टल स्ट्राइक को ठीक से हैंडल नहीं किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here