प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस वक्त गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरे पर हैं। आज यानि गुरुवार को उन्होंने पिछली कांग्रेस सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि, महात्मा गांधी के मूल्यों का पालन नहीं किया और गुजरात के गांवों की उपेक्षा की। मोदी गुजरात में अहमदाबाद जिले के बावला गांव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवारों के लिए एक प्रचार रैली में बोल रहे थे।

उस आत्मा को दिया कुचल

उन्होंने वास्तव में उस आत्मा को कुचल दिया। गांवों की उपेक्षा की गई और उनकी वास्तविक क्षमता को कभी समझा नहीं गया.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि, गांवों और शहरों के बीच की खाई कांग्रेस सरकारों के तहत ही चौड़ी हुई, जिसने ‘दोनों के बीच संघर्ष का लाभ भी लिया। उन्होंने दावा किया, ‘आज हर कोई गुजरात की पंचायती राज व्यवस्था की सराहना करता है. लेकिन कांग्रेस के शासन के दौरान उस विभाग का बजट सिर्फ 100 करोड़ रुपये था।

केंद्र ने कई सुविधाएं कराई मुहैया

प्रधानमंत्री ने कहा कि सत्ता में आने के बाद भाजपा ने गांवों में बिजली और नल के पानी जैसी सुविधाएं मुहैया कराने पर ध्यान केंद्रित किया ताकि लोगों को ऐसी सुविधाओं के अभाव में शहरों की ओर पलायन न करना पड़े। चुनावी राज्य गुजरात में मुफ्त बिजली देने के कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बादे के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि अब समय मुफ्त में बिली पाने का नहीं बल्कि इससे आय करने का है।

चुनावी रैली को किया संबोधित 

उत्तर गुजरात के अरवल्ली जिला स्थित मोडासा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें वह कला पता है कि कैसे लोग बिजली से पैसे कमा सकते हैं। इस दौरान, प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया और कहा कि वह ‘‘बांटों और शासन करो’’ के फार्मूले पर काम करती है और उसका सत्ता में बने रहने पर ही ध्यान लगा रहता है।