जयपुर। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन जारी है। जिसके चलते राजस्थान के दौसा शहर में शुक्रवार को विशाल किसान महापंचायत का आयोजन हो रहा है। इस रैली में एक लाख किसानों को बुलाने का दावा किया गया है। यह आयोजन राजेश पायलट स्टेडियम में होगा। वही इस रैली में जुटने वाली भीड़ को सचिन पायलट के शक्ति परीक्षण के तौर पर भी देखा जा रहा है।

वही आज यानि शुक्रवार को राजेश पायलट की कर्मभूमि दौसा में एक लाख किसानों के साथ किसान पंचायत आयोजित होगी। आपको बता दे कि, कांग्रेस की सरकार प्रदेश में आने के बाद सचिन पायलट की यह पहली रैली होगी। इसको सफल बनाने के लिए पायलट गुट के सभी विधायक जी जान से लगे हुए हैं। सत्ता में हिस्सेदारी का इंतजार कर रहे सचिन पायलट अब पूरे राजस्थान में रैली करने निकल रहे हैं।

वही इस रैली में सचिन पायलट की शैली पर BJP के अलावा राज्य मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी नजर रखे हुए हैं। सचिन पायलट की रैली में भारी भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने भी दौसा जिले में पूरी तैयारी कर रखी है। इसकी पूरी जिम्मेदारी सचिन पायलट के दो खास सिपहसालार विधायक मुरारी मीणा और जीआर खटाना ने संभाली है।

बता दे कि, दौसा में यह किसान महापंचायत सुबह 11 बजे से शुरू हो गई है जो दोपहर बाद तक चलेगी। इसके बाद राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को सौंपा जाएगा। जिसमें तीनों कृषि विधेयक वापस लेने की मांग रखी गई है। इस महापंचायत को देखते हुए करीब 600 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। साथ ही तीन आरएसी की कंपनियों को भी तैनात किया गया है।