बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) की फिल्म ‘पठान’ (Pathaan) रिलीज से पहले विवादों में आ गई है। फिल्म का पहला गाना बेशरम रंग 12 दिसंबर को रिलीज किया गया। रिलीज के साथ ही यह गाना विवादों में आ गया। दीपिका ने गाने में कई ग्लैमरस अवतार लिए हैं। जहां उन्होंने बिकिनी से लेकर मोनोकिनी तक पहनी है।

इसे दीपिका का अब तक का सबसे बिंदास अंदाज कहा जा रहा है। जिसके बाद देश के अलग अलग हिस्सों में फिल्म को बैन करने की मांग उठने लगी। पहले हिंदू और अब मुस्लिम संगठनों ने भी शाहरुख खान की इस फिल्म को बैन करने की मांग कर दी है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मुस्लिम संगठनों ने बॉलीवुड के बादशाह की पठान फिल्म को बैन करने की डिमांड की है।

भगवा रंग की बिकनी पर उठ रहे सवाल

दरअसल, पठान फिल्म के ‘बेशर्म रंग’ गाने में शाहरुख खान और दीपिका पादुकोण के हॉट और बोल्ड सीन दिखाए गए हैं। इस गाने में दीपिका पादुकोण भगवा रंग की बिकिनी भी पहने हुए दिखाई दे रही हैं। इस पर भी संगठनों ने आपत्ति जताई है और फिल्म बैन करने की मांग की है। उधर मुस्लिम संगठनों ने पठान के बेशर्म रंग गाने में दर्शाए गए सीन को लेकर नाराजगी जाहिर की है। ऑल इंडिया त्योहार कमेटी के चेयरमैन औसाफ शाहमीरी खुर्रम ने पठान मूवी को इस्लाम की तौहीन करार दिया है। इसके साथ ही उन्होंने पठान मूवी पर बैन लगाने की मांग उठाई है।

ग्रहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निर्माताओं को दी चेतावनी

वहीँ बीतें दिन मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी फिल्म के गाने को लेकर गंभीर आपत्ति जताई थी। नरोत्तम का कहना था कि गाने में इस्तेमाल की गई वेशभूषा आपत्तिजनक है। उनका कहना था कि फिल्माया गया गाना साफ तौर पर दूषित मानसिकता को दर्शाता है। दीपिका पादुकोण पर निशाना साधते हुए नरोत्तम ने कहा कि दीपिका जेएनयू के मामले में टुकड़े टुकड़े गैंग की समर्थक भी रही हैं। मैंने फिल्म निर्माताओं से निवेदन किया है कि इस गाने में दर्शाए गए दृश्यों और वेशभूषा में बदलाव करें अन्यथा मध्य प्रदेश में इस फिल्म को अनुमति मिलेगी या नहीं हमें इस पर विचार करना पड़ेगा।

Also Read : विवादों के घेरे में बेशर्म रंग गाना, शाहरुख खान ने तोड़ी चुप्पी

बैन को लेकर शाहरुख़ खान ने तोड़ी चुप्पी

शाहरुख खान ने कोलकाता फिल्म महोत्सव के दौरान अपना रिएक्शन दिया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग सोशल मीडिया पर नेगेटिविटी फैला रहे हैं। सिनेमा समाज को बदलने का एक साधन है। शाहरुख खान ने ये भी कहा कि दुनिया चाहे कुछ भी कर ले मैं, आप और जितने भी पॉज़िटिव लोग हैं, जिंदा हैं।