पंकज त्रिपाठी ने एग्री-टैक स्टार्टअप कृषि नेटवर्क में किया इन्वेस्ट

एग्रीटेक प्लेकटफार्म कृषि नेटवर्क ने सुपर स्टा रपंकज त्रिपाठी को कंपनी में निवेशक और ब्रैंड एंबैसडर बनाने की घोषणा की है।

नई दिल्ली : एग्रीटेक प्लेकटफार्म कृषि नेटवर्क ने सुपर स्टा रपंकज त्रिपाठी को कंपनी में निवेशक और ब्रैंड एंबैसडर बनाने की घोषणा की है। पंकज त्रिपाठी के साथ इस गठबंधन के चलते स्टा र्टअप आम जनता तक पहुंच में विस्ता र करने के साथ-साथ, जमीनी स्तधर पर भी किसानों से जुड़ेगा। पंकज पहले किसान रह चुके हैं और उनकी यह पृष्ठाभूमि इस स्टाार्टअप के किसानों को बेहतर मुनाफे का लाभ दिलाने में मदद करने के ध्येजय के अनुरूप है। कंपनी किसानों को खेती संबंधी कई महत्वटपूर्ण सवालों के तत्कानल जवाब देकर उन्हेंा महत्वनपूर्ण फैसले लेने में मदद करती है।

इस गठबंधन के बारे में पंकज त्रिपाठी का कहना है, ”किसानी की पृष्ठ्भूमि के चलते, मैं हमेशा से उन प्रयासों में मदद देने को उत्सुबक रहता हैं जो किसानों को अपने कारोबार को बढ़ावा देने वाली जानकारी सुलभ कराते हैं। जब मैं खेती-बाड़ी किया करता था तो सही जानकारी प्राय: उपलब्धर नहीं होती थी, लेकिन कृषि नेटवर्क जिस तरह से आज किसानों को सपोर्ट दे रहा है, वह वाकई सराहनीय पहल है।”

Must Read : इन चीज़ों के सेवन से बढ़ सकता है माइग्रेन का दर्द, जरूर बना ले इन से दूरी

कृषि नेटवर्क की स्था,पना आईआईटी खड़गपुर के पूर्व छात्रों आशीष मिश्रा तथा सिद्धांत भूमिया ने की है और यह इंटरनेट की गांवों-देहातों में बढ़ती पैठ का लाभ उठाकर ऐसा प्लेषटफार्म उपलब्धत करा रहा है जिसकी मदद से किसानों की पहुंच ऐसी महत्वोपूर्ण जानकारी तक होती है जो उन्हेंभ अपनी भूमि से अधिक लाभ कमाने में मददगार साबित होती है। कंपनी किसानों को ऑनलाइन तथा ऑफलाइन सपोर्ट देती है और इसने कई एग्री ब्रैंड्स, एग्री-इनपुट मर्चेंट्स तथा कृषि सप्ला ई चेन से जुड़े अन्यन कई हितधारकों को भी जोड़ा है। कृषि नेटवर्क ऍप फिलहाल हिंदी, मराठी, पंजाबी और अंग्रेजी में उपलब्धक है तथा जल्दड ही इसे अन्यह कई भाषाओं में भी लॉन्चन करने की योजना है।

इस घोषणा के बारे में कृषि नेटवर्क के संस्थािपक आशीष मिश्रा ने बताया, ”हमने भारतीय कृषि क्षेत्र में बदलाव लाने के मकसद से कृषि नेटवर्क की शुरुआत की थी और इसके लिए हम किसानों को पूरे भरोसे के साथ बदलाव को अपनाने के लिए तैयार करते हैं। हम उन्हेंत अपने स्थाहनीय क्षेत्र से बाहर तक के विशेषज्ञों तथा अन्यि एग्री-व्यमवसायों से जुड़ने का लाभ दिलाते हैं। हमें इस पहल के लिए जताए गए भरोसे को देखकर खुशी है और हम आगे भी भारतीय किसानों के विकास की राह में पेश आने वाली अड़चनों को दूर करने के लिए अथक प्रयास जारी रखेंगे।”

Must Read : इंदौर सहित एमपी के इन मेडिकल कॉलेजों में खुलेंगे IVF केंद्र, मुफ्त होगा इलाज

इससे पहले कृषि नेटवर्क ने अन्यो निवेशकों – संजीव रंग्रास (आईटीसी), सुनील खैरनार (इंडिग्राम लैब्से), वकेंट तड़ंकी (अन्वा या वैंचर्स), रुशांक वोरा (आईसीआईसीआई वैंचर्स), अनीश रेड्डी (कैपिलरी), अभिषेक गोयल (ट्रैक्संन), अगम खरे (एब्सो ल्यूैट फूड्स), सूरज साहरन (दिल्लीकवरी), रोहित राजदान (क्ली)यरटैक्सक) तथा कनव हसीजा (इनोवाकर) आदि से भी निवेश प्राप्तस किया है। अब निवेश की नवीनतम खेप मिलने से कंपनी देशभर में अपने एआई आधारित टैक्नोरलॉजी प्लेिटफार्म को बढ़ावा दे सकती है।

कंपनी के एक निवेशक संजीव रंग्रास (ग्रुप हैड – आर एंड डी, सस्टेधनेबिलिटी, आईटीसी) का कहना है, ”किसान सही मायने में उद्यमी होते हैं और वे एक जटिल कारोबार का प्रबंधन करते हैं। कृषि नेटवर्क ऐसा इंजन है जिसे किसानों के समुदायों का समर्थन हासिल है। मुझे आशीष और सिद्धांत के नेतृत्वत वाले कषि नेटवर्क को देखते ही यह लग गया था कि इससे किसानों की दुनिया में बदलाव आएगा।”

कंपनी फिलहाल 30 लाख किसानों से जुड़ी है और अपने नेटवर्क में और विस्ता र को उत्सु क है। कंपनी किसी भी कृषि सेवा से जुड़े सवालों के लिए ’15 मिनट में जवाब’देने की पेशकश करती है, और यह इस प्लेपटफार्म पर रजिस्टेर्ड 8000 से अधिक विशेषज्ञों के चलते संभव हुआ है। कृषि नेटवर्क किसानों को विभिन्न हितधारकों से संपर्क का अवसर दिलाता है। साथ ही, यह समूचे एग्री-इकोसिस्टसम के लिए भी फायदेमंद है और किसानों के लिए दोतरफा संचार का जरिया बनता है।