इन चीज़ों के सेवन से बढ़ सकता है माइग्रेन का दर्द, जरूर बना ले इन से दूरी

माइग्रेन (Migraine) का दर्द इन दिनों आम समस्या हो चुकी हैं। 80 प्रतिशत लोगों को माइग्रेन की प्रॉब्लम होने लग गई है। ये सब ख़राब खान पान की वजह से होता है।

माइग्रेन (Migraine) का दर्द इन दिनों आम समस्या हो चुकी हैं। 80 प्रतिशत लोगों को माइग्रेन की प्रॉब्लम होने लग गई है। ये सब ख़राब खान पान की वजह से होता है। बता दे, हमारे खराब लाइफ स्‍टाइल और अनहेल्‍दी खानपान के कारण ट्रिगर करता है माइग्रेन का दर्द। दरअसल, जो भी चीज़ हम खाते है उसका सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। जिसकी वजह से उल्‍टी, घबराहट, प्रकाश और तेज आवाज से संवेदनशीलता जैसे लक्षण दिखाई देते है और ये सभी लक्षण माइग्रेन के होते है। ऐसे में कई बार इतना तेज सर दर्द होता है जो बर्दाश से भी बाहर हो जाता है ऐसे में जब तक उलटी ना हो तो सर दर्द बंद भी नहीं होता।

Must Read : इंदौर सहित एमपी के इन मेडिकल कॉलेजों में खुलेंगे IVF केंद्र, मुफ्त होगा इलाज

माइग्रेन एक प्रकार का मस्तिष्‍क विकार है जो 35 से 40 साल की उम्र के लोगों में तेजी से बढ़ता है। लेकिन आजकल ये कम उम्र के लोगों में भी ज्यादा देखने को मिल रहा है। डब्‍ल्‍यूएचओ के अनुसार, माइग्रेन का दर्द महिलाओं में अधिक देखने को मिलता है। ये हार्मोनल की वजह से महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलता है। बता दे, कुछ ऐसे आहार हैं जो माइग्रेन को ट्रिगर करते हैं। आज हम आपको इन सभी आहार के बारे में बताने जा रहे है। अगर आप भी इनका इस्तेमाल करते है और आपको भी सर दर्द जैसी समस्या है तो अभी सावधान हो जाए। तो चलिए जानते है –

माइग्रेन को ट्रिगर करने वाले फूड

कैफीनयुक्त ड्रिंक्‍स –

कैफीन माइग्रेन अटैक को रोकने में मदद कर सकता है। लेकिन अधिक मात्रा में कैफीनयुक्त पदार्थ जैसे- चाय, कॉफी का सेवन करने से माइग्रेन की समस्या और ज्यादा को बढ़ सकती है।

आर्टिफिशियल स्वीटनर्स –

इसके अलावा बात करें आर्टिफिशियल स्वीटनर्स की तो बाजार में मिलने वाले कई प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों हैं जो आर्टिफिशियल स्‍वीटनर्स का इस्‍तेमाल करते हैं। ऐसे में इनका इस्तेमाल शरीर के लिए काफी नुकसान दायक होता है। इससे माइग्रेन की परेशानी बढ़ सकती है।

चॉकलेट –

बता दे, चॉकलेट में कैफीन और बीटा-फेनिलथाइलामाइन दोनों ही ज्यादा मात्रा में होते है जिसकी वजह से सिरदर्द की परेशानी बढ़ सकती है।

मोनोसोडियम ग्लूटामेट –

मोनोसोडियम ग्लूटामेट ग्लूटामिक एसिड एक सोडियम नमक है इसके ज्यादा सेवन करने से माइग्रेन की समस्या शुरू हो सकती है। ये आपको पैकेड फूड्स, चाइनीज फूड्स, पैकेड सूप आदि में मिलता है।

मीट –

जानकारी के मुताबिक, मीट, हैम, हॉट डॉग और सॉसेज आदि खाद्य पदार्थों में नाइट्रेट्स नामक तत्‍व होते हैं जो रंग और स्वाद को बढाने का काम करते हैं। ये हमारे शरीर के लिए नुकसान दायक होता है। दरअसल, ये नाइट्रिक ऑक्साइड को रक्त में छोड़ सकते हैं जो मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं को पतला करता है जिससे माइग्रेन बढ़ सकता है।

अचार और फर्मेंटेड फूड्स –

बता दे, अचार, फर्मेटेड फूड और मसालेदार खानों का अधिक मात्रा में सेवन करें तो इससे माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है। इस तरह के खाद्य पदार्थों में उच्च मात्रा में टाइरामाइन हो सकता है जो माइग्रेन को ट्रिगर कर सकता है।

सॉल्‍टी फूड्स –

नमकीन प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन करने से माइग्रेन ट्रिगर हो सकता है। इनमें अत्‍यधिक मात्रा में सोडियम होते हैं जो रक्तचाप बढ़ सकता है और जिससे माइग्रेन अटैक पड़ सकता है।