नए साल में भारत के खिलाफ साजिश रच रहा पाक, ऐसे हुआ खुलासा

सोमवार को विदेश मामलों की सलाहकार समिति की बैठक और एक अन्य मंत्रिस्तरीय कमेटी की बैठक में ऐसी राजनयिक पहल और मीडिया अभियान के बारे में विचार किया गया। इन दोनों बैठकों की अध्यक्षता विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने की।

0
Pakistan

नई दिल्ली: साल 2019 में जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को लेकर पाकिस्तान की दुनियाभर में किसी ने नहीं सुनी। तमाम कोशिशों के बाद भी पाकिस्तान खाली हाथ ही रह गया है। इस चिंता के निवारण के लिए उसने नए साल 2020 में नई कवायद करने का फैसला किया है। कश्मीर मुद्दे पर दुनिया की चुप्पी तोड़ने के लिए पाकिस्तान नए सिरे से राजनयिक पहल व मीडिया अभियान शुरू करने जा रहा है।

इस बात का खुलासा भी पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित एक रिपोर्ट में हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को विदेश मामलों की सलाहकार समिति की बैठक और एक अन्य मंत्रिस्तरीय कमेटी की बैठक में ऐसी राजनयिक पहल और मीडिया अभियान के बारे में विचार किया गया। इन दोनों बैठकों की अध्यक्षता विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने की।

पाकिस्तानी मीडिया में रिपोर्ट में कहा गया है कि इन दोनों बैठकों में कश्मीर में लगातार खराब हो रही मानवाधिकारों की स्थिति, नियंत्रण रेखा पर भारत द्वारा संघर्षविराम के लगातार उल्लंघन और भारत के नागरिकता कानून पर विचार विमर्श किया गया।’ इसमें कहा गया कि सरकार को ‘कश्मीर के हालात के बारे में विश्व समुदाय को आगाह करने के लिए’ नए सिरे से राजनयिक प्रयास करने की जरूरत है।

मंत्रिस्तरीय कमेटी की बैठक में कुरैशी के साथ कई संघीय मंत्री, प्रधानमंत्री के सुरक्षा मामलों के सलाहकार मोईद यूसुफ व कुछ अन्य मामलों के सलाहकार और विदेश सचिव सोहैल महमूद ने हिस्सा लिया। इसमें मुख्य रूप से इस बात पर विचार किया गया कि विदेश नीति के खास मुद्दों, जिसमें कश्मीर का मुद्दा प्रमुखता से शामिल है, पर पाकिस्तानी रुख को स्पष्ट करने के लिए मीडिया का सहारा किस रूप में लिया जा सकता है।