अश्लीलता महिला लेखन का विषय नहीं होना चाहिए- प्रसिद्ध लेखिका विमला व्यास

हिंदी साहित्य की जानी-मानी लेखिका श्रीमती विमला व्यास ने आज अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम में अपने विचार रखते हुए कहा कि अश्लीलता महिला लेखन का विषय नहीं हो सकता उन्होंने कहा कि मानवता के गुणों से भरपूर लेखन किया जाना चाहिए।

ALSO READ: भारतीय जीवन मूल्य लेखिकाओं के लेखन में मौजूद रहता है, डॉ विकास ने कहा

श्रीमती व्यास ने कहा कि उनका जन्म चित्रकूट में हुआ है जहां के कण-कण में राम और सीता बसे हुए हैं व्यास ने मां दुर्गा के नौ रूपों की चर्चा करते हुए कहा कि उन गुणों को अपने जीवन में धारण कर सकते हैं उन्होंने कहा कि छपने के लिए हमें निम्न स्तरीय तरीकों को नहीं अपनाना चाहिए । हमारे सनातन धर्म में कहा गया है कि स्त्री-पुरुष की सहचरी है इसलिए सशक्त तो वह है ही । उन्होंने कहा कि हमारे बोलने और लिखने में पावनता होनी चाहिए ।