अब मिग विमानों की ताकत बढ़ाने की तैयारी में वायुसेना, स्वदेशी तकनीक से होंगे लैस

भारत को फ्रांस ने पहला राफेल विमान विमान सौंप दिया है और जल्द ही ये भारत में आने शुरू हो जाएंगे। इसी बीच अब भारतीय वायुसेना अपनी ताकत बढ़ाने के लिए रूस से 21 नए मिग-29एस लड़ाकू विमान खरीदने के बारे में भी विचार कर रही है।

0
MIG

नई दिल्ली। भारत को फ्रांस ने पहला राफेल विमान विमान सौंप दिया है और जल्द ही ये भारत में आने शुरू हो जाएंगे। इसी बीच अब भारतीय वायुसेना अपनी ताकत बढ़ाने के लिए रूस से 21 नए मिग-29एस लड़ाकू विमान खरीदने के बारे में भी विचार कर रही है। बताया जा रहा है कि रूस से इन विमानों का अधिग्रहण किए जाने के बाद स्वदेशी हथियारों की प्रणाली से लैस कर सकती है। जिससे मिग-29एस लड़ाकू विमान और अधिक ताकतवर हो जाएंगे।

खबरों की माने तो वायुसेना द्वारा 21 मिग-29एस के अधिग्रहण का प्रस्ताव जल्द ही रक्षा अधिग्रहण परिषद के सामने रखा जाएगा। वहीं मौजूदा समय जो मिग-29 है उन्हें नए मिग-29एस से अपग्रेड करने की तैयारी की जा रही है। वहीं भारतीय वायुसेना चाहती है कि विमान को हवा से हवा में मार करने वाली ‘एस्ट्रा मिसाइलों‘ समेत भारतीय हथियार प्रणालियों से भी लैस किया जाए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सौदा हो जाने के बाद विमान अन्य स्वदेशी उपकरण और हथियारों से लैस किए जाएंगे। बता दे कि ये खबर ऐसे समय आई है जब भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा है कि वायुसेना द्वारा लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस और पांचवीं पीढ़ी के एडवांस मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट प्रोग्राम जैसे स्वदेशी प्रयासों का पूरी तरह से समर्थन किया जाएगा।