बिहार के सारण जिले में जहरीली शराब से हो रही मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। जिले के तीन प्रखंडों में जहरीली शराब से अब तक 31 लोगों की मौत हो चुकी है। इस संख्या के और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। दरअसल आसपास के कई अस्पतालों में लोग जहरीली शराब की वजह से भर्ती हैं, और प्रशासन के पास इनका आंकड़ा नहीं है। वैसे, प्रशासन ने घटना को गंभीरता से लिया है और इलाके में छापेमारी शुरू कर दी गई है।

अभी तक पूरे जिले में अभियान चलाकर 40 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, पुलिस ने शराब बेचने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक इन्हीं के द्वारा भेजी गई शराब पीकर 31 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 15 से अधिक लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। प्रशासन ने अब तक 17 का पोस्टमार्टम करवाया है।

Also Read – Petrol Prices Today: पेट्रोल-डीजल के दाम क्या आया कोई उतर चढ़ाव ? जानें तेल की नई कीमतें

हाल ही में विपक्षी बीजेपी इस मुद्दे पर लगातार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेर रही है। इसी बीच नीतीश कुमार ने विधानसभा में विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए कहा, ”जो नकली शराब पिएगा वह तो मरेगा ही, लोगों को खुद ही सचेत रहना होगा।”

नीतीश कुमार ने कहा, ”जब बिहार में शराबबंदी नहीं थी, तब भी लोग नकली शराब पीकर मर जाते थे। यहां तक कि अन्य राज्यों में भी ऐसी घटनाएं होती हैं। लोगों को सचेत रहना चाहिए। बिहार में चूंकि शराबबंदी है, तो कुछ न कुछ नकली बिकेगा, इसे पीकर लोगों की मौत हो गई। नीतीश कुमार ने कहा कि शराब बुरी आदत है। इसे नहीं पीना चाहिए।”

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा, ”मैंने अधिकारियों को कहा है कि गरीबों को न पकड़ें जो लोग इसका व्यवसाय कर रहे हैं उन्हें पकड़ें. शराब बंदी कानून से कई लोगों को फायदा हुआ है कई लोगों ने शराब छोड़ दी है।”