MP Weather : प्रदेश में दिखेंगे आज, बादल, बिजली और बरसात, मौसम विभाग ने इन जिलों के लिए जारी किया अलर्ट

भोपाल मौसम विभाग के अनुसार आज प्रदेश के रीवा, शहडोल, जबलपुर, भोपाल, इंदौर, नर्मदापुरम, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर, वर्षा या गरज चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। इसके साथ ही सागर संभाग के जिलों में में कहीं सामान्य तो कहीं पर हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है।

मध्य प्रदेश (mp) में एक बार फिर बारिश के आसार नजर आ रहे हैं। तापमान में बढ़ौतरी और माहौल में उमस जहां एक तरफ वातावरण में गर्माहट पैदा कर रहे हैं, वहीं ये बढ़ती हुई उमस और गर्मी बारिश के आसार भी प्रदेश में बना रही है। मध्य प्रदेश में मानसून तो अपना फर्ज निभा कर लौटने की कगार पर है, परन्तु नए वेदर सिस्टम अभी भी मध्य प्रदेश में कहीं हल्की तो कहीं सामान्य से तेज बारिश का कारण बन रहे हैं।

Also Read-भाद्रपद शुक्ला पूर्णिमा Live Darshan : कीजिए देशभर के प्रमुख मंदिरों के मंगला दर्शन

इन जिलों में है बारिश के आसार

भोपाल मौसम विभाग के अनुसार आज प्रदेश के रीवा, शहडोल, जबलपुर, भोपाल, इंदौर, नर्मदापुरम, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर, वर्षा या गरज चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। इसके साथ ही सागर संभाग के जिलों में में कहीं सामान्य तो कहीं पर हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है।

Also Read-Bigg Boss 16: क्या सलमान खान के पॉपुलर शो ‘बिग बॉस 16’ में एंट्री ले रही है भोजपुरी क्वीन रानी चटर्जी ?

इन जिलों में है यलो अलर्ट

मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश के कुछ जिलों में यलो अलर्ट भी जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार शहडोल, जबलपुर, नर्मदापुरम एवं चंबल संभागों के जिलों में तथा देवाल, उज्जैन, बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन व बड़वानी जिलों में कहीं-कहीं बिजली गिरने की आशंका बनी हुई है। इसके साथ ही मौसम विभाग ने 11 और 12 सितंबर को प्रदेश में वर्षा की प्रबल संभावना जताई है।

ये वेदर सिस्टम कर रहे हैं प्रभावित

भोपाल मौसम विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश में जहा मानसून की विदाई हो चुकी है वहीं हिमालय का स्थिर मानसून ट्रफ और अरब सागर और बंगाल की खाड़ी की में बनने वाली नमी ही अभी वर्तमान में प्रदेश में कई जिलों में बारिश का जरिया बनी हुई है। इन नए वेदर सिस्टम ने प्रदेश का वातारण नम कर रखा है। तापमान में उमस और इन नए वेदर सिस्टम से बन रही नमी मिलकर बारिश की संभावना को बढ़ा रहे हैं।