विपिन नीमा

इंदौर। विधानसभा चुनाव 2018, लोकसभा चुनाव 2019, नगर निगम चुनाव 2022 में भाजपा ने अपने मेनोफेस्टो में मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट को शामिल करके वोट मांगे। अब अगले दो साल में होने वाले दो चुनावों में भी मेट्रो प्रोजेक्ट पर पार्टी का फोकस रहेगा। हाल ही में शहरी विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने इंदौर के कार्यक्रम में कहा कि अगले साल यानी 2023 के सितंबर महीने में इंदौर में 5. 50 ओर भोपाल में 6 किमी के सुपर-प्रायोरिटी कॉरिडोर पर मेट्रो रेल चलना शुरू हो जाएगी।

इस व्यवस्था से लोग मेट्रो से सफर करने का लुत्फ उठा सकेंगे। सरकार यह तय कर चुकी है की इंदौर भोपाल में मेट्रो का ट्रायल रन एक साथ शुरू होगा। ये मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का पहला फेज है। इसके बाद लोकसभा चुनाव में मेट्रो का फोकस रेडिशन तक रहेगा।

Read More : Palak Tiwari की पतली कमर पर टिकी फैंस की नजरें, एक्ट्रेस ने दिखाया बेहद बोल्ड अंदाज

ट्रैफिक डायवर्ट के लिए 200 मी. लंबी सड़क बनेगी सुपर कॉरिडोर पर

विधानसभा चुनाव से पहले मेट्रो के लिए युध्द स्तर पर काम चल रहा है। गांधी नगर से सुपर कॉरिडोर तक 5.50 किमी के सुपर प्रायोरिटी कॉरिडोर को प्राथमिकता के साथ समय सीमा में पूरा किया जाना है। मेट्रो कंपनी देपालपुर स्थित सुपर कॉरिडोर चौराहा (सेक्टर ए) और बाड़गदा चौराहे के बीच सड़क का निर्माण कर रही है , ताकि ट्रैफिक को डायवर्ट किया जा सके। बताया गया है कि सुपर कॉरिडोर के जिस हिस्से में मेट्रो का काम चलेगा, वहां 200 मीटर लंबी और 10 मीटर चौड़ी अस्थायी सड़क बनाकर ट्रैफिक डायवर्ट किया जाएगा। इसी प्रकार अन्य जानकारी के मुताबिक लोकसभा चुनाव आने तक मेट्रो का दायरा रेडिशन तक बढ़ाया जाएगा।

एयरपोर्ट ओर भंवरासला जोन से 7 – 8 बिजली कनेक्शन लिए गए है

पश्चिम बिजली संभाग के एयरपोर्ट जोन और इंदौर ग्रामीण संभाग के भंवरासला बिजली जोन से स्टेशन विकास के लिए 7-8 बिजली कनेक्शन लिए गए है। इधर लवकुश तिराहे तक जेतपुरा से विशेष बिजली लाइन भी आ रही है। मेट्रो के लिए 25000 वाट का इंजन, लाइन की जरूरत होती है। इसी के हिसाब से 132/33 केवी के सब स्टेशन से सीधे बिजली मेट्रो रूट पर सप्लाय की जाएगी। यह बिजली मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा प्रदाय की जाएगी। आगे जाकर मेट्रो के लिए बिजासन मंदिर नीचे बीएसएफ ग्राउंड के आसपास 220 केवी की नया सब स्टेशन भी तैयार किया जाएगा, जो पूरे शहर की मेट्रो के लिए .उचित रहेगा।

Read More : सागर लोकायुक्त की बड़ी कार्यवाही, 20000 की रिश्वत लेते उप निरीक्षक गिरफ्तार

सरकार के वादे को पूरा करने में जुटे है मेट्रो के अफसर

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान प्रदेश की जनता के सामने कई बार कह चुके है कि सितम्बर 2023 तक इंदौर – भोपाल में मेट्रो की शुरूआत हो जाएगी। सरकार के वादे को पूरा करने के लिए मेट्रो के अफसर इंदौर – भोपाल में सुपर प्रायोरिटी कॉरिडोर को जल्द से जल्द तैयार करने में जुटे हुए है। दोनों शहरों में कम किलोमीटर वाले कॉरिडोर इसलिए बनाये जा रहे है ताकि चुनाव से पहले मेट्रो चल सके और सीएम ओर अन्य मंत्री प्रदेश की जनता के सामने यह बोल सके कि हमने मेट्रो चला दी है।

एक मेट्रो …. 5 चुनाव
– 2018 विधानसभा चुनाव में कागजो पर आई
–  2019 लोकसभा चुनाव में भूमिपूजन के साथ काम शुरू हुआ
– 2022 निगम चुनाव में खूब प्रचार कर वोट मांगे
–  2023 विधानसभा चुनाव से पहले ट्रायल रन का लक्ष्य रखा गया है
– 2024 के लोकसभा चुनाव में मेट्रो का दायरा रेडिशन तक रहेगा

क्या कहते है अफसर

हमारी प्राथमिकता है कि हम इंदौर ओर भोपाल में सुपर प्रायोरिटी कॉरिडोर का काम जल्द से जल्द पूरा करते हुए इसमें सितंबर 2023 तक मेट्रो का ट्रायल रन शुरू कर देंगे – मनीषसिंह , एमडी मेट्रो रेल कारपोरेशन इंदौर मेट्रो मप्र शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें बिजली कंपनी भी पूर्ण सहयोग कर रही है। वर्तमान में मेट्रो के जिस चरण का (गांधी नगर, सुपर कॉरिडोर) कार्य तेजी से चल रहा है, वहां इंदौर पश्चिम शहर संभाग और इंदौर ग्रामीण संभाग के तहत एयरपोर्ट जोन, भंवरासला जोन की टीमें सहयोग अदा कर रही है। अमित तोमर एमडी मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी