मतदान से पहले Koo का बड़ा कदम, फर्स्ट टाइम वोटर्स के लिए बहुभाषी गाइड पेश

24 जनवरी 2022: राष्ट्रीय मतदाता दिवस से पहले माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म Koo App ने बड़ा कदम उठाते हुए मतदाता अधिकारों और जिम्मेदारियों पर एक बहुभाषी गाइड जारी की है। इसका मकसद पहली बार मतदाता बने लोगों को आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान सजग फैसला लेने में सशक्त बनाना है। यह कू वोटर गाइड भारत के संविधान में निहित मतदाता के मूल अधिकारों पर ध्यान केंद्रित करती है और उन जिम्मेदारियों को सामने लाती है जिनके बारे में मतदाताओं को वोट डालने से पहले और बाद में विचार करने की जरूरत होती है।

ALSO READ: गणतंत्र दिवस : देशभक्ति कार्यक्रम ‘भारत पर्व’ जाल सभागृह में..

यह एक पारदर्शी, निष्पक्ष और विश्वसनीय सोशल मीडिया (Social Media) मध्यस्थ के रूप में Koo App के प्रयासों को दर्शाता है, जो मतदाता जागरूकता बढ़ाने और चुनावी प्रक्रिया में अधिक विश्वास बनाने से जुड़े हैं। मूल भाषा में अभिव्यक्ति को सक्षम बनाने वाले सबसे बड़े मंच के रूप में सभी चुनावी राज्यों में पहली बार मतदाताओं को लाभान्वित करने के लिए कू वोटर गाइड हिंदी, मराठी, पंजाबी और अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है।

इस बार राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2022 की थीम ‘मजबूत लोकतंत्र के लिए चुनावी साक्षरता’ रखी गई है। इस विषय को ध्यान में रखते हुए कू वोटर गाइड लोकतंत्र के केंद्रीय स्तंभ के रूप में मतदान के महत्व और स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनावों के लिए मतदाता शिक्षा को बढ़ाने की आवश्यकता को दोहराती है।

ALSO READ: MP News: TI हरीश यादव सेवा से बर्खास्त, कॉलगर्ल को दिया था संरक्षण

इस संबंध में कू के सीईओ और सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “मतदान एक लोकतंत्र में सभी नागरिकों को दिया गया एक मौलिक अधिकार है। हर वोट मायने रखता है। इस तरह पहली बार वाले मतदाताओं को इस महत्वपूर्ण अधिकार का विवेकपूर्ण ढंग से इस्तेमाल, सशक्त और शिक्षित करने के लिए हमने राष्ट्रीय मतदाता दिवस से पहले इस कू वोटर गाइड को लॉन्च किया है।

भारत की भाषाई विविधता को सलाम करने वाले एक बहुभाषी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के रूप में हमने प्रत्येक मतदाता के ज्ञान को समृद्ध करने और चुनावी प्रक्रिया में अधिक विश्वास पैदा करने के लिए इस गाइड को चार भाषाओं में जारी किया है। एक निष्पक्ष, खुले और विश्वसनीय मंच के रूप में Koo App इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएएमएआई) द्वारा निर्मित ‘स्वैच्छिक आचार संहिता’ को अपनाने के बाद चुनावों के दौरान सोशल मीडिया के पारदर्शी इस्तेमाल की उम्मीद करता है। हम भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि समाज में सकारात्मक और प्रगतिशील बदलाव लाने के लिए Koo App का सर्वश्रेष्ठ ढंग से लाभ उठाया जा सके।

भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना 1950 में की गई थी और इस वजह से हर साल 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। वर्ष 2011 में पहली बार शुरू किए गए राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य नए मतदाताओं के नामांकन को प्रोत्साहित करना और बढ़ाना है।