Bhopal। भोपाल में करणी सेना परिवार का आंदोलन दूसरे दिन भी जारी है। जातिगत आरक्षण समेत 21 सूत्रीय मांगों को लेकर करणी सेना परिवार का जनआंदोलन प्रशासन की अनुमति खत्म होने के बाद भी जारी है। सरकार की तरफ से मांगों को पूरा करने का लिखित आवश्वासन देने की मांग को लेकर करणी सेना के प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर समेत पांच लोग भूख हड़ताल पर बैठे है।

जानकारी के मुताबिक, जीवन सिंह शेरपुर (Jeevan Singh Sherpur) सोमवार को महाराणा प्रताप की मूर्ति (Statue of Maharana Pratap) पर माल्यार्पण करने जा रहे थे, तो उन्हें पुलिस ने रोक दिया। उन्हें माल्यार्पण नहीं करने दिया और रस्ते पर बेरिकेट्स भी लगा दिए गए है। जिससे आंदोलनकारियों में आक्रोश है और ज्यादा भीड़ इकट्ठा होने की उम्मीद है। करणी सेना का कहना है की प्रशासन ने अभी तक लिखित में कोई जबाब नहीं दिया है।

Also Read – IMD Alert: दिल्ली सहित उत्तर भारत में शीत लहर का कहर, 10 जनवरी से वेस्टर्न डिस्टर्बेंस बिगाड़ेगा मौसम का हाल, अलर्ट जारी

करणी सेना के बैनर तले राजपूत संगठनों और सर्व समाज (Rajput organizations and Sarva Samaj) ने भोपाल में जंगी प्रदर्शन किया, जिसने देखते ही देखते बड़ा रूप ले लिया। लाखों की संख्या में देश भर से आए कार्यकर्ता भोपाल के जंबूरी मैदान में जुट गए। जहां आर्थिक आधार पर आरक्षण और एट्रोसिटी एक्ट के विरोध समेत 21 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया।

सोमवार की सुबह होते ही मैदान में फिर से आंदोलनकारियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया। करणी सेना परिवार के प्रदेश अध्यक्ष जीवन सिंह शेरपुर के नेतृत्व में राजधानी भोपाल में शक्ति प्रदर्शन किया जा रहा है। इस शक्ति प्रदर्शन में मध्यप्रदेश सहित चार राज्य राजस्थान, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के राजपूत भी शामिल हैं।

करणी सेना प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर ने कहा कि सरकार ने हमारी मांगे पूरी नहीं की तो हम चुनावी राजनीति में प्रवेश करने से भी परहेज नहीं करेंगे। सर्वण और पिछड़ा वर्ग हमारे साथ है। हम व्यवस्था बदलने आंदोलन कर रहे हैं। हमारी मांगों पर सरकार ने विचार नहीं किया तो हम सत्ता बदल देंगे।