Karam Dam : पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ धार ज़िले की धरमपुरी तहसील पहुंचे, बांध फूटने के बाद बने हालात का लेंगे जायजा

ताजा प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ धार ज़िले की धरमपुरी तहसील पहुंच चुके हैं । यहां पहुंच कर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बांध फूटने के बाद बने हालात का जायजा लेंगे और इसके साथ ही इस घटना से प्रभावित लोगों से भी मुलाक़ात करके उनका पक्ष और उनकी परेशानियां भी जानेगें।

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) धार ज़िले की धरमपुरी तहसील पहुंच चुके हैं। गौरतलब है कि बीते कुछ दिनों से धार जिले का यह कारम डैम देशभर में सुर्खी बना हुआ है, जिसका कारण है की भारी बारिश के चलते डैम की दीवारों से पानी रिसना, जोकि उक्त डैम के क्षतिग्रस्त और चिंताजनक स्थिति में अवस्थित होने का सूचक है। इसकी जानकारी लगने के तुरंत बाद ही से शासन-प्रशासन एक्शन में आ गया और मंत्रियों, कलेक्टर सहित सभी बड़े-छोटे अधिकारियों ने बांध स्थल पर मोर्चा बाँध लिया था।

Also Read-मध्य प्रदेश : भोपाल में भारी बारिश के चलते आज 16 अगस्त को सभी स्कूलों में अवकाश घोषित, सामान्य से 20 इंच ज्यादा गिरा पानी

कमलनाथ बांध फूटने के बाद बने हालात का जायजा लेंगे और प्रभावितों से मुलाक़ात करेंगे

ताजा प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ धार ज़िले की धरमपुरी तहसील पहुंच चुके हैं । यहां पहुंच कर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बांध फूटने के बाद बने हालात का जायजा लेंगे और इसके साथ ही इस घटना से प्रभावित लोगों से भी मुलाक़ात करके उनका पक्ष और उनकी परेशानियां भी जानेगें। गौरतलब है कि 15 से 20 गाँव इस घटना से प्रभावित होने के संभावित गाँवों में आते हैं।

Also Read-गुजरात : बिलकिस बानो रेप केस में माफी नीति के तहत 11 दोषी रिहा, काट रहे थे आजीवन कारावास

कमलनाथ के साथ कई सारे स्थानीय विधायक मौजूद 

जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ कांग्रेस पार्टी के कई स्थानीय विधायक और नेता-कार्यकर्ता भी मौजूद रहेंगे। सूत्रों के अनुसार इस दौरान उक्त कारम डैम का एरियल सर्वे कराया जाएगा । कमलनाथ और कांग्रेस पार्टी के द्वारा डैम के निर्माण में हुए भ्र्ष्टाचार को ही इस गंभीर परिस्थिति का कारण माना जा रहा है।