बढ़ेगी भारत की राडार इमेजिंग की ताकत, ISRO कल लांच करेगा ताकतवर रक्षा सैटेलाइट

628 किलोग्राम वजनी RiSAT-2BR1 सैटेलाइट को पृथ्वी से 576 किलोमीटर ऊपर की कक्षा में स्थापित किया जाएगा। सैटेलाइट RiSAT-2BR सैटेलाइट RiSAT-2BR लांच होगी।

0
60
RISAT2BR1

नई दिल्ली: भारत अंतरिक्ष में अपनी ताकत और बढ़ाने जा रहा है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) बुधवार को एक ताकतवर इमेजिंग सैटेलाइट RiSAT-2BR लांच करने वाला है। इस सैटेलाइट के अंतरिक्ष में तैनात होने के बाद भारत की राडार इमेजिंग की ताकत में कई गुना इजाफा हो जाएगा। साथ ही दुश्मनों पर नजर रखना ज्यादा आसान हो जाएगा।

Image

ISRO इस सैटेलाइट को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा द्वीप पर स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से लांच करेगा। 628 किलोग्राम वजनी RiSAT-2BR1 सैटेलाइट को पृथ्वी से 576 किलोमीटर ऊपर की कक्षा में स्थापित किया जाएगा। सैटेलाइट RiSAT-2BR सैटेलाइट RiSAT-2BR लांच होगी।

इसके साथ ही ISRO अमेरिका के 6, इजरायल, जापान और इटली के भी एक-एक सैटेलाइट का प्रक्षेपण इसी रॉकेट से करेगा। पीएसएलवी-सी48 क्यूएल रॉकेट के लॉन्च होने के करीब 21 मिनट बाद सभी 10 उपग्रह अपनी-अपनी निर्धारित कक्षाओं में स्थापित हो जाएंगे।

Image

RiSAT-2BR1 दिन और रात दोनों समय काम करेगा। ये माइक्रोवेव फ्रिक्वेंसी पर काम करने वाला सैटेलाइट है इसलिए इसे राडार इमेजिंग सैटेलाइट कहते हैं। RiSAT-2BR किसी भी मौसम में काम कर सकता है। साथ ही यह बादलों के पार भी तस्वीरें ले पाएगा। देश की सेनाओं के अलावा यह कृषि, जंगल और आपदा प्रबंधन विभागों को भी मदद करेगा।

मुंबई हमलों से है संबंध

26/11 को मुंबई पर हुए आतंकी हमलों के बाद शुरुआती रीसैट सैटेलाइट की तकनीक में बदलाव किया गया था। इन हमलों के बाद इस सैटेलाइट के जरिए सीमाओं की निगरानी की गई थी और घुसपैठ पर नजर रखी गई थी। साथ ही आतंकविरोधी कामों में भी यह सैटेलाइट उपयोग में लाई जाती है।

इसरो ने ट्वीट कर लिखा कि, जो ये दिखा रहा है कि RiSAT-2BR1 सैटेलाइट पीएसएलवी-सी48 रॉकेट में तैनात है। रॉकेट लॉन्चपैड-1 पर प्रक्षेपण के लिए तैयार खड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here