इंदौर नगर के पुलिस आयुक्त हरिनारायणचारी मिश्र के निर्देशन में इंदौर में अपराधियों के विरुद्ध ऑपरेशन प्रहार अभियान(Operation Prahar) संचालित किया जा रहा हैं, जिसमें पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली हैं। ऑपरेशन प्रहार अभियान के तहत 1757 आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाही की गई।

पुलिस के अनुसार मंगलवार 29 मार्च को देर रात अवैध गतिविधियां संचालित करने वालों एवं फरार आरोपियों के विरुध्द आकस्मिक रुप से ऑपरेशन प्रहार के तहत कार्यवाही की गई। जिसमें अति. पुलिस आयुक्त मनीष कपूरिया (कानून एवं व्यवस्था) एवं अति. पुलिस आयुक्त श्री राजेश हिंगणकर (अपराध एवं मुख्यालय) के मार्गदर्शन में पुलिस उपायुक्त जोन 1 अमित तोलानी, पुलिस उपायुक्त जोन 2 सम्पत उपाध्याय , पुलिस उपायुक्त जोन 3 धर्मेन्द्र सिंह भदौरिया, पुलिस उपायुक्त जोन 4 राजेश कुमार सिंह, पुलिस उपायुक्त निमिष अग्रवाल (अपराध) एवं पुलिस उपायुक्त रजत सकलेचा (आसूचना एवं सुरक्षा) के नेतृत्व में सभी जोन में ऑपरेशन प्रहार के तहत अभियान चलाया गया।

ऑपरेशन प्रहार के अंतर्गत आकस्मिक रुप से सभी जोन में पुलिस टीमों का गठन कर अभियान के अंतर्गत विभिन्न टास्क को व्रीफिंग कर टीमें रवाना की गई । जोन के अंतर्गत विभिन्न टीमों के द्वारा अपने अपने क्षेत्रों में अवैध गतिविधियां संचालित करने वाले, शराब बेचने वाले , नशा बेचने वालों के विरुध्द घेराबंदी कर कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन किया गया । जिसमें अलग अलग क्षेत्रों में 77 आरोपी आबकारी एक्ट के तहत गिरफ्तार किए गए , मादक पदार्थ को बेचने व सेवन करने वाले 06 लोगों को गिरफ्तार किया गया। तथा संदिग्ध व आवारा लोगों को आकस्मिक चैकिंग में 42 लोगों को आर्म्स एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया ।

Must Read: 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों को मिला बड़ा तोहफा, मोदी सरकार ने DA में की 3% की बढ़ोतरी

ऑपरेशन प्रहार के आकस्मिक अभियान में 156 स्थायी वारंटी, 214 गिरफ्तारी वारंटी, 296 जमानती वारंटी तथा 66 विभिन्न आपराधिक प्रकरणों में फरार आरोपियों को पुलिस की विभिन्न टीमों ने धरपकड़ कर गिरफ्तार किया। माननीय न्यायालय के विभिन्न थानों लंबित 322 समंस को अमल में लाया गया।

वाउंड ओवर के तहत 107,116 (3) सीआरपीसी, 110 सीआरपीसी के लंबित 235 नोटिस को तामील कराया गया। अभियान के अंतर्गत रात में आवारा एवं अकारण संदिग्ध अवस्था में मिलने पर 46 लोगों को धारा 151 सीआरपीसी के तहत गिरफ्तार किया गया। धारा 144 सीआरपीसी के तहत जारी आदेश का उल्लंघन करने पर 02 आरोपियों के विरुध्द कार्यवाही की गई। रात्रि प्रहार अभियान के अंतर्गत वाहनों की चैकिंग करने पर संदिग्ध एवं नशे की हालत पाए जाने पर मोटर व्हीकल एक्ट के अंतर्गत 04 वाहन चालकों के विरुध्द कार्यवाही की गई। प्रहार अभियान के दौरान 14 स्थानों पर नाकाबंदी कर चैकिंग तथा 57 स्थानों पर ब्रीद एनालायजर से चैकिंग की गई। आदतन एवं सूचीवध्द गुण्डे व निगरानी बदमाशों की चैकिंग की गई एवं 291 सूचीवध्द/निगरानी/संदिग्ध बदमाशों को थाने पर लाकर डोजियर तैयार कर पूछताछ की कार्यवाही की जा रही है।

इंदौर पुलिस के ऑपरेशन प्रहार देर रात शुरु होकर सुबह तक जारी रहा। इस अभियान में पुलिस की टीम के द्वारा देर रात बैठकर नशा करने व बेचने वालों के अड्डों पर दबिश दी गई। बस्तयों में व मोहल्लो में अवैध शराब बेचने वालों पर कार्यवाही की गई । देर रात आवारा घूमने वाले असामाजिक तत्वों के विरुध्द कार्यवाही की गई । पूरे प्रहार अभियान की मॉनीटरिंग एवं निगरानी कंट्रोल रुम के कैमरों एवं 4 अत्याधुनिक ड्रोन कैमरों के द्वारा की गई । ड्रोन का उपयोग घनी बस्ती , तंग गलियों एवं छतों पर छुपे गुण्डे बदमाशों की पहचान करने के लिए किया गया। अभियान के अंतर्गत ब्रीद एनालायजर का उपयोग नशा कर वाहन चलाने वालों के विरुध्द कार्यवाही हेतु किया गया। अभियान को प्रभावी वनाने के लिए अतिरिक्त वाहनों को अधिग्रहण किया गया तथा लगभग 100 से अधिक 4 पहिया वाहन एवं जेल वाहनों को ऑपरेशन हेतु लगाया गया। पुलिस के इस अभियान से पुलिस थानों के हवालात भर गए तथा अस्पतालों में एमएलसी हेतु अपराधियों की लंबी लाईन लग गई।

ऑपरेशन प्रहार के अंतर्गत लगातार अवैध गतिविधियों पर प्रभावी अंकुश हेतु लगातार कार्यवाही की जा रही है । आकस्मिक रुप से चलाए गए इस अभियान में सभी जोन के अति. पुलिस उपायुक्त, सहा. पुलिस आयुक्त , थाना प्रभारी , थानों का बल एवं कंट्रोल रुम के रिजर्ब बल जिसमें 1500 से अधिक अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा ऑपरेशन प्रहार की कार्यवाही को सफलतापूर्वक पूरा किया गया ।