Indore News : जिले में वैक्सिनेशन को लेकर कलेक्टर का निरिक्षण, अधिकारियों को सुनाई खरी – खोटी

इंदौर जिले को 30 नवंबर तक पूर्णतः वैक्सीनेटेड जिला बनाने की तैयारी को लेकर कल देवी अहिल्या विश्वविद्यालय सभागृह में कलेक्टर मनीष सिंह ने एक के बाद एक तीन बैठकें लीं।

Indore News : इंदौर जिले को 30 नवंबर तक पूर्णतः वैक्सीनेटेड जिला बनाने की तैयारी को लेकर कल देवी अहिल्या विश्वविद्यालय सभागृह में कलेक्टर मनीष सिंह ने एक के बाद एक तीन बैठकें लीं। सबसे आखरी में उन्होंने वैक्सीनेशन (Vaccination) में सहयोग देने के लिए इंदौर जिले के सभी कंट्रोल दुकानों के संचालकों को बुलाया था। कलेक्टर मनीष सिंह (Collector Manish Singh) ने इन सभी दुकानदारों को जिले में वैक्सीनेशन से बचे हुए लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करने की जवाबदारी दी।

और साथ ही कहा कि ऐसे लोगों को राशन ना दें जिन्होंने अब तक वैक्सीन का दूसरा डोज (Second Dose) नहीं लगवाया है। मीटिंग के अंत में कलेक्टर ने इन दुकान संचालकों से कहा कि अगर आपकी कोई समस्या हो तो बताएं इस दौरान कई दुकान संचालकों ने कलेक्टर के सामने खुलकर अपनी समस्याएं रखी। शिकायतों को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह ने जब राशन दुकान संचालकों के सामने ही इंदौर जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी मीना मालाकार को डांट लगाई तो इन दुकान संचालकों ने जमकर ताली बजाई। दुकान संचालकों के द्वारा इस महीने का राशन आवंटित नहीं होने की शिकायत के मामले में कलेक्टर ने सीधे खाद्य आपूर्ति अधिकारी से कहा कि ऑफिस में बैठने से काम नहीं चलेगा मैदान में निकलना पड़ेगा।

आप ऑफिस से काम कर रही हैं। थोड़ा लोगों के बीच में जाना शुरू कीजिए।इस बैठक में महू तहसील के राशन दुकान संचालकों के द्वारा यह शिकायत की गई थी महू कैंटोंमेंट के अधिकारी हमारी बात नहीं सुनते हैं। इस पर भी कलेक्टर ने जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी को फटकार लगाई और कहा कि आपको वहां का दौरा करना चाहिए इसके साथ ही वहां कैंटोंमेंट के अधिकारियों से चर्चा करना चाहिए।

ये भी पढ़े – जनपद पंचायत बन गया है भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा केंद्र

ऑफिस में बैठने से काम नहीं चलेगा। कलेक्टर के द्वारा बार-बार खाद्य आपूर्ति अधिकारी को डाटा जा रहा था और जैसे ही डांट पड़ रही थी वैसे ही राशन दुकानों के संचालकों के द्वारा जोरदार ताली बजाई जा रही थी। अंत में कलेक्टर ने राशन दुकान संचालकों से कहा कि आपकी कोई भी समस्या हो तो उसके लिए सीधा मेरे पास आ सकते हैं। अगर उनकी कोई व्यक्तिगत समस्या भी होगी तो मैं आपकी मदद करूंगा यह सुनकर सभी राशन दुकान संचालक खुश हो गए।