इंदौर: अफसरों को मेयर भार्गव की दो टूक बात – मैं कोई गलत काम नहीं करूंगा…

महापौर  पुष्यमित्र भार्गव व आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा निगम मुख्यालय महापौर सभाकक्ष में विभागवार कार्यो की समीक्षा बैठक ली गई।

महापौर पुष्यमित्र भार्गव व आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा निगम मुख्यालय महापौर सभाकक्ष में विभागवार कार्यो की समीक्षा बैठक ली गई। बैठक में समस्त अपर आयुक्त, समस्त उपायुक्त, विभाग प्रमुख व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। महापौर भार्गव द्वारा सर्वप्रथम विभागीय अधिकारियो से परिचय लेते हुए, उनके विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यो की जानकारी ली गई। बैठक में समस्त विभाग प्रमुख द्वारा अपने-अपने विभाग जिनमें राजस्व, प्रधानमंत्री आवास योजना, जनकार्य विभाग, जलयंत्रालय विभाग, जलप्रदाय विभाग, यातायात विभाग, वर्कशॉप विभाग, स्वच्छ भारत मिशन, अमृत योजना, स्थापना विभाग, शाला प्रकोष्ठ, शहरी गरीबी उपशमन प्रकोष्ठ, योजना शाखा, विद्युत विभाग, उद्यान विभाग व अन्य विभागो की विभागवार संबंधित अधिकारियो से जानकारी ली गई।

इस अवसर पर महापौर भार्गव ने कहा कि निगम अधिकारी लगातार अपने कर्तव्य का पालन करते हुए, कार्य करते है, उन्होने कहा कि मैं कभी भी कोई गलत काम नही बताउंगा, अगर मेरे नाम से कोई आपको कोई काम बताता है यदि वह गलत है तो आप मुझे बताऐं। साथ ही मेरे नाम का उपयोग करके कोई भी गलत काम नही किये जावे, इस बात का आप सभी विशेष तौर पर ध्यान रखे। महापौर भार्गव ने निगम अधिकारियो से कहा कि जो भी विकास कार्य किये जा रहे है, वह समय सीमा में पूर्ण हो इस हेतु आप सभी कार्य करे।

महापौर भार्गव द्वारा निगम के विभागवार कार्यो की समीक्षा के दौरान कहा कि निगम भवन अनुज्ञा शाखा से 72 घंटे में जारी होने वाले नक्शे की जानकारी प्रतिदिन अनिवार्य रूप से प्रस्तुत की जावे। इसके साथ ही निगम द्वारा शहर में जहां भी नवीन सडक का निर्माण किया जाता है, उन सडको पर अनिवार्य रूप से स्टॉम वॉटर लाईन डाली जावे, रोड निर्माण की योजना में स्टॉर्म वाटर लाइन शामिल कर ले ताकि जल जमाव की स्थिति उत्पन्न ना हो। महापौर भार्गव ने कहा कि भू जल संरक्षण को दृष्टिगत रखते हुए, शहर में ऐसी सडको का निर्माण योजना बनाई जावे, जहां पर सडक किनारे से बारिश का पानी सीधे भूमि में जावे, ताकि शहर का भू-जल स्तर बढ सके, इसके लिये जरूरी है कि आप सभी इसके लिये योजना बनावे।

Read More : Ananya Panday ने पहनी इतनी छोटी स्कर्ट, तस्वीरों पर टिकी फैंस की नजरे

शहर में विधानसभावार 6 आदर्श स्कुल होगा निर्माण तथा सुविधायुक्त 100 उद्यानो को होगा विकास – महापौर
इसके साथ ही महापौर भार्गव द्वारा शहर विकास के साथ ही इंदौर शहर में विधानसभा वार प्रत्येक विधानसभा में सर्वसुविधायुक्त 6 आदर्श स्कुल निर्माण करने के संबंध में योजना बनाने के निर्देश देते हुए, कहा कि शहर में 6 ऐसे स्थानो पर आदर्श स्कुल का निर्माण किया जावे, जहां पर आस-पास के बच्चो को इसका लाभ प्राप्त हो, जिन्हे ऐसे आदर्श स्कुल की आवश्यकता हो, साथ ही आदर्श स्कुल का निर्माण ऐसा किये जावे कि अगले शिक्षा सत्र में प्रायवेट स्कुल के बच्चे भी आदर्श स्कुल में अध्यन के लिये आए। महापौर भार्गव द्वारा पर्यावरण संरक्षण को दृष्टिगत रखते हुए, आगामी अक्टुबर 2022 तक शहर में 100 ऐसे उद्यानो का पूर्ण रूप से विकास करने के लिये निर्देश दिये, उद्यान विकास के अंतर्गत उद्यान में पौधारोपण, ओपन जिम, वॉकिंग ट्रेक, विद्युत व्यवस्था आदि से सुविधायुक्त उद्यान विकसित किया जा सके।

महापौर भार्गव ने कहा कि शहर का एक वार्ड चिन्ना अंकित करके उस वार्ड क्षेत्र मैं निश्चित स्थान या हॉकर्स झोन पर ही ठेला व्यवसायी सब्जी-फल आदि का विक्रय करे, ना कि वार्ड के मेनरोड व सडको पर, ठेला व्यावसायी द्वारा वार्ड के विभिन्न क्षेत्रो के साथ ही मेनरोड पर व्यापार करने से उस क्षेत्र का यातायात प्रभावित होता है और जाम की स्थिति उत्पन्न होती है, साथ ही क्षेत्रीय नागरिको से भी आग्रह किया जावेगा, कि वह वार्ड क्षेत्र के निर्धारित स्थान से ही फल-सब्जी आदि सामग्री का क्रय करे, जिससे की नागरिको के साथ ही ठेला व्यावसायियों को भी व्यवसाय में सुविधा और निश्चित स्थान मिल सकेगा ।

Read More : 😳हद से ज्यादा बोल्ड हुई खतरों के खिलाड़ी की जन्नत जुबैर, कैमरे के सामने दिए ऐसे पोज🔥

साथ ही निगम में पदस्थ अधिकारियो के साथ ही कर्मचारियों के संबंध में भी जानकारी लेते हुए, वर्तमान में कितने कर्मचारी विनियमित है, और ऐसे कितने कर्मचारी है जो कि विनियमित की पात्रता रखते है, उनकी जानकारी निकाले और नियमानुसार विनियमित करने की कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए। बैठक के दौरान महापौर भार्गव ने कहा कि शासन की जनकल्याणकारी योजनाओ का लाभ प्रत्येक जरूरत मंद व पात्र हितग्राही को मिले, इसके लिये जरूरी है कि प्रत्येक झोन में एक ऐसे कर्मचारी की नियुक्ति की जावे, जो कि झोन पर आने वाले हितग्राही को शासन की योजनाओ की जानकारी देने के साथ ही योजना से संबंधित आवेदन पत्र प्राप्त करे और आवेदनो का नियमानुसार निराकरण क्या जावे तथा इसकी मॉनिटरिंग करे।