भारतीय रेलवे के खस्ताहाल, पिछले 10 साल के सबसे बुरे दौर में कमाई

0
33
rail

नई दिल्ली। आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को लगातार झटके लग रहे हैं। इसी बीच सरकार के लिए एक और चिंताभरी खबर सामने आई है। दरअसल, भारतीय रेलवे बीते 10 सालों में सबसे बुरे दौर में पहुंच गई है। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रेलवे की आय पिछले दस सालों के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। रेलवे का परिचालन अनुपात वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 फीसदी तक पहुंच गया है।

कैग के इस आंकड़े को आसान भाषा में समझा जाए तो भारतीय रेलवे 98 रुपये 44 पैसे खर्च करके महज सौ रुपये ही कमा रही है। यानी कि रेलवे को सिर्फ एक रुपये 56 पैसे का ही फायदा हो रहा है। जो कि व्यापारिक दृष्टि से सबसे बुरी स्थिति है।

कैग की रिपोर्ट के अनुसार रेलवे को हो रहे घाटे की मुख्य वजह उच्च वृद्धि दर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2017-18 के वित्तीय वर्ष के दौरान 7.63 फीसदी संचालन व्यय की तुलना में उच्च वृद्धि दर 10.29 फीसदी था। इसके अलावा रिपोर्ट में रेलवे की खराब हालत का एक और कारण पिछले दो सालों में आईबीआर-आईएफ के तहत जुटाए गए पैसे का उपयोग न किया जाना भी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि रेलवे द्वारा बाजार से मिलने वाले फंड का पूरी तरह इस्तेमाल सुनिश्चित किया जाना चाहिए। कैग ने रेलवे के राजस्व को बढाने के उपाय सुझाते हुए कहा कि सकल और अतिरिक्त बजटीय संसाधनों पर निर्भरता को कम करना चाहिए। साथ ही चालू वित्त वर्ष में रेल के पूंजीगत व्यय में कटौती की बात भी कही गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here