दिल्लीदेश

मोदी सरकार ने किए बड़े ऐलान, किसानों और छोटे उद्योगों को होगा फायदा

नई दिल्ली। लाॅकडाउन पांच का आज पहला दिन है। ऐसे में आज से देश को सशर्तें खोला जाना शुरु कर दिया गया है। इसी बीच सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी ने कैबिनेट की अहम बैठक की। इस बैठक में कई अहम मुद्दों पर बात हुई है। साथ ही सरकार ने कई बड़े फैसले भी किए। बैठक में हुए फैसलों की जानकारी देने के लिए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर, नितिन गडकरी और नरेंद्र तोमर ने प्रेस कांफ्रेंस की।

इस दौरान जावडेकर ने कहा कि मजबूत और महत्वपूर्ण भारत के निर्माण में एमएसएमई की बड़ी भूमिका है। कोविड को देखते हुए इस सेक्टर के लिए कई घोषणाएं की हैं। जिसके तहत एमएसएमई की सीमा 25 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ की गई है। भारत सरकार ने एमएसएमई की परिभाषा को संशोधित किया है।

इसके अलावा एमएसएमई के कारोबार की सीमा 5 करोड़ रुपये की गई है। उन्होंने बताया कि एमएसएमई को लोने देने की व्यवस्था भी की गई है। एमएसएमई के लिए 20 हजार करोड़ रुपये लोन देने का प्रावधान है। वहीं सैलून, पान की दुकान और मोची को भी इस योजना से लाभ होगा।

  • इसके अलावा बैठक में लिए फैसलों में एमएसएमई को लोन देने के लिए 3 लाख करोड़ की योजना है।
  • रेहड़ी पटरी वालों के लिए लोन की योजना है। रेहड़ी पटरी वालों को 10 हजार का लोन मिलेगा।
  • किसानों को लेकर भी बड़े ऐलान किए
  • मक्का के समर्थन मूल्य में 53 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है।
  • तूअर और मूंग में 58 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है।
  • धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1868 रुपये किया गया।
  • देश में 6 करोड़ एमएसएमई हैं जिनमें 11 करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी मिली है।
  • कमजोर उद्योगों को उबारने के लिए 4 हजार करोड़ का फंड दिया गया है।