मध्य प्रदेश

लॉकडाउन में सर्वोच्च स्तर पर बिजली की मांग, इंदौर में रोज 79 लाख यूनिट आपूर्ति

इंदौर। लॉकडाउन एवं कर्फ्यू के बाद भी मालवा के चार प्रमुख शहरों इंदौर, उज्जैन, देवास, रतलाम में घरेलू बिजली की मांग सर्वोच्च स्तर पर है। इन चारों शहरों में रोज करीब 1 करोड़ 8 लाख यूनिट की मांग है।

मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी इंदौर के प्रबंध निदेशक विकास नरवाल ने बताया कि चारों शहरों में लॉकडाउन में घरेलू बिजली की मांग मार्च की तुलना में 40 से 45 फीसदी बढ़ी हुई है। नरवाल ने बताया कि इंदौर में अभी रोज बिजली की अधिकतम मांग 365 मैगावाट के करीब है। इस मांग के चलते 79 लाख यूनिट बिजली की दैनिक आपूर्ति हो रही है। उज्जैन में करीब 17 लाख यूनिट, रतलाम में 5 लाख यूनिट एवं देवास में 5.5 लाख यूनिट बिजली का दैनिक आपूर्ति हो रही है। नरवाल ने बताया कि घरेलू, गैर घरेलू फीडरों पर रोज 24 घंटे एवं कृषि फीडरों पर 10 घंटे आपूर्ति हो रही है। उन्होंने बताया कि मालवा और निमाड़ के सभी 110 नगरीय इलाके एवं 12 हजार गांवों में रोज 6 करोड़ 30 लाख यूनिट बिजली की आपूर्ति हो रही है।

बिल राशि जमा करने की अपील

मप्रपक्षेविविकं ने उपभोक्ताओं से बिल की राशि जमा करने की अपील की है। कंपनी ने कंटेंमेंट एरिया से बाहर के सभी जोन व बिजली वितरण केंद्र स्थित भुगतान केंद्र भी प्रारंभ किए है। यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए 10 से 4 बजे तक भुगतान किया जा सकता है।

दोहरी छूट का ले फायदा

निम्नदाब उपभोक्ताओं को घर बैठे बिल भरने पर कैशलैंस छूट प्रति बिल 5 से 20 तक प्रदान की जाती है। उच्चदाब उपभोक्ता एक हजार तक की छूट पा सकते है। उपभोक्ता द्वारा ऊर्जस एप, पेटीएम, फोन पे, गुगल पे, एमपी आन लाइन, एनआईसीटी, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड से भी बिल भरे जा सकते है। लॉकडाउन अवधि में हर बिल पर 1 फीसदी की छूट अलग से प्रदान की जाएगी, निम्नदाब कनेक्शन पर अधिकतम 10 हजार एवं उच्चदाब पर अधिकतम 1 लाख तक की छूट मिलेगी।

इंदौर शहर में नया बिल भुगतान केंद्र आज से

शहर के पालदा इलाके में नया बिजली बिल भुगतान केंद्र गुरुवार 21 मई से प्रारंभ किया जा रहा है। यह केंद्र पुराने पंचायत भवन, तेजाजी चौक आरटीओ रोड पर सुबह 10 से शाम 4 बजे तक संचालित होगा। शहर अधीक्षण यंत्री अशोक शर्मा ने बताया कि मार्च में इस केंद्र की मंजूरी प्रबंध निदेशक विकास नरवाल ने दी थी। शर्मा ने बताया कि इंदौर शहर के सभी 30 जोन पर बिजली बिल भुगतान केंद्र प्रारंभ किए गए है, सभी जगह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है।