इस तरह KYC के जरिए खाली हो रहा लोगों का बैंक अकाउंट, RBI ने जारी किए आंकड़े

0
50

नई दिल्ली: इन दिनों मोबाइल फोन पर मैसेज के जरिए ठगी के कई मामले सामने आ रहे हैं. मैसेज में (KYC) या कुछ पैसे जीतने का एक लिंक आता है, जिस पर आप क्लिक करते हैं और आपके अकाउंट से पैसे कट जाते हैं. आए दिन इन मैसेज के जरिए ही कई लोगों के बैंक अकाउंट से पैसे काट लिए जाते हैं. हाल ही में केंद्र सरकार ने संसद में बताया कि ऑनलाइन बैंकिंग में धोखाधड़ी के मामले एक साल में काफी बढ़ गए हैं. डेबिट और क्रेडिट कार्ड या इंटरनेट बैंकिंग के दौरान धोखाधड़ी के मामले पिछले एक साल में 34,000 से बढ़कर 52,000 से ज्यादा हो गए, हालांकि इस तरह की धोखाधड़ी में राशि की मात्रा में कमी आई है. इन सभी को लेकर एक सवाल उठता है कि आखिर फाइनेंशियल फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़ क्यों रहे हैं.

एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना है कि “कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड के फ्रॉड से जैसे-जैसे पर्दा उठता जा रहा है, वैसे-वैसे पूरे भारत में ब्रोकिंग फर्म पर लोगों की नज़र पड़ती जा रही है. कार्वी का मुद्दा अकेली घटना नहीं है और न ही यह स्टॉक ब्रोकिंग का मुद्दा है. कार्वी का मुद्दा भारतीय अर्थव्यवस्था के चिंताजनक स्थिति में होने और लगातार बढ़ते हुए इकोनॉमिक फ्रॉड की ओर इशारा कर रहा है.”

भारतीय रिजर्व बैंक के जारी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2018-19 में करीब 71,543 करोड़ रूपए का फ्रॉड हुआ, जबकि साल 2017-18 में यह आंकड़ा 41,168 करोड़ रुपए था, जो इससे पिछले साल की तुलना में इस साल करीब 74 फीसदी ज्यादा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here