मानसून का सीजन खत्म होने के बाद भी देश में लगातार बारिश का दौर जारी है। भारी बरसात की आशंका जताते हुए मौसम विभाग ने आगामी पांच दिनों के लिए रेड अलर्ट एक बार फिर जारी कर दिया है। यह अलर्ट दक्षिणी राज्यों के लिए जारी किया गया है। जो आने वाले शनिवार से आफत मचाने वाले हैं। वही समुद्र किनारे वाले राज्यों ने मछुआरों को मछली पकड़ने से रोका है।

वर्षा यह मचाएंगी आतंक

आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल समेत कई दक्षिणी राज्यों में 31 अक्टूबर तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वहीं देश के कुछ हिस्सों में मौसम अगले पांच दिनों तक शुष्क बना रहेगा। IMD ने शनिवार से दक्षिण भारतीय राज्यों में भारी बारिश की आशंका जताई है। आईएमडी के मुताबिक बंगाल की खाड़ी और दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत पर निचले क्षोभमंडल के स्तर में उत्तरपूर्वी हवाओं की संभावना है। दक्षिण राज्यों में 29 अक्टूबर से बारिश शुरू होने की संभावना है।

 

दो दिन तक भारी बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक, दक्षिण भारत के आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल सहित कई राज्यों में 29 से 31 अक्टूबर तक भारी बारिश हो सकती है। वही इन राज्यों में बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, 29-31 तारीख के दौरान पुडुचेरी, तमिलनाडु और कराईकल में भारी बारिश के साथ आंधी और बिजली गिरने की भी आशंका व्यक्त की गई है। केरल और आंध्रप्रदेश के तटीय क्षेत्रों में 30 और 31 तारीख को भारी बारिश हो सकती है।

इन जिलों में पांच दिन तक बरसेंगे बदल

तमिलनाडु व पुडुचेरी में बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है। अगले दो दिनों में उत्तर-पूर्वी राज्यों और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में भी बारिश की संभावना है। पूर्वानुमान में यह भी बताया गया है कि आगामी पांच दिनों में देश के बाकी हिस्सों में मौसम शुष्क बना रहेगा। पूर्वोत्तर मॉनसून के 20 अक्टूबर को तमिलनाडु से टकराव की उम्मीद थी। लेकिन बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवाती तूफान सितरंग के कारण इसमें देरी हुई है।

Also Read : इन जिलों में 29 और 30 से होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

तिरुचिरापल्ली, पेरम्बलुर, नागपट्टिनम और तिरुवरूर सहित राज्य के 20 जिलों में भारी बारिश का अनुमान है। आगामी पांच दिनों में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भी छिटपुट, हल्की या मध्यम वर्षा हो सकती है। इस दौरान पांच दिनों में देश के शेष हिस्से शुष्क बने रहेंगे।

MP में मौसम का हाल

दिवाली का त्योहार आते ही मध्यप्रदेश में ठंडक ने भी दस्तक दे दी है। पिछले 10 साल से भोपाल, इंदौर में ऐसा होता आ रहा है कि दिवाली के जोर ठंड रहती है। इस साल भी ये सिसलिसा बंगाल की खाड़ी में बने नए सिस्टम के कारण जारी है। हालांकि बंगाल की खाड़ी के तूफान का असर राजधानी में नजर नहीं आएगा रात का पारा सामान्य से दो से 4 डिग्री तक कम रहने की संभावना।

छत्तीसगढ़ में बन रहे है ये असर

मध्य प्रदेश के साथ साथ छत्तीसगढ़ में दिवाली पर ठंड आ गई है। प्रदेश का औसतम तापमान 20 डिग्री पहुंच गया है। बीती रात रायपुर में पारा 19.5 डिग्री रहा। मौसम विभाग ने अगले दो दिन प्रदेश में मौसम साफ रहने की उम्मीद जताई है। प्रदेश में सबसे कम तापमान अंबिकापुर में 16 डिग्री दर्ज किया गया। यानी दिवाली में गुवाबी ठंड आ गई है।

लोगों की बड़ रही है मुश्किलें

लगातार बदल रहा मौसम बीमारियां बढ़ा रहा है। इन दिनों खांसी, जुकाम आदि की समस्या के मरीज अस्पतालों में पहुंचने लगे हैं। दोनों ही राज्यों में डेंगू के कई मरीज मिले हैं। इस बीच त्यौहारी सीजन में एक बार फिर कोरोना बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। जानकारों की माने तो इन दिनों हमें थोड़ा बच के रहना चाहिए। क्योंकि इस समय भीड़ बढ़ेगी, जो कोरोना के फैलने का समसे बड़ा कारण है।