Health Tips : आंवले का सेवन कर बढ़ाएं आंखों की रोशनी

आंवला (Gooseberry) का उपयोग करने की सलाह आयुर्वेद चिकित्सकों द्वारा दी जाती है। इसका सेवन कई बीमारियों में फायदेमंद होता है वहीं आंखों (eyes) के लिए भी इसका सेवन करनेकी सलाह दी जाती है।

Amalki Ekadashi

आंवला (Gooseberry) का उपयोग करने की सलाह आयुर्वेद चिकित्सकों द्वारा दी जाती है। इसका सेवन कई बीमारियों में फायदेमंद होता है वहीं आंखों (eyes) के लिए भी इसका सेवन करनेकी सलाह दी जाती है। आयुर्वेद के चिकित्सकों का कहना है कि यदि आपकी आंखों की रोशनी कम हो गई है तोे आंवले का सेवन करने से निश्चित ही रोशनी को बढ़ाया जा सकता है। हालांकि यह भी कहा गया है कि रोशनी कम होने की वजह सामान्य ही होना चाहिए।

सी विटामिन है आंखों के लिए जरूरी

आंखों के चिकित्सकों का कहना है कि आंखों की रोशनी यूं ही कमजोर नहीं हो जाती है लेकिन हमारी लापरवाही से हमें परेशानी भुगतनी पड़ती है। जिस तरह से हम अपने खान-पान का ध्यान हर दिन रखते है उसी तरह से आंखों की भी देखभाल करना जरूरी है। चिकित्सकों के अनुसार आंखों की बेहतरी के लिए सी विटामिन (vitamins C) जरूरी है तथा आंवले में भी विटामिन सी रहता है। इसलिए इसका नियमित रूप से उपयोग आंखों की रोशनी बनाने में सहायक रहता है।

Must Read : MP Budget : बजट भाषण के बीच विपक्षियों ने बरपाया हंगामा, यहां पढ़ें पूरा बजट

धूल मिट्टी भी खराब करती हैं आंखें

वैसे तो वाहन चलाते वक्त अधिकांश लोग धूप का चश्मा लगाते हैं, लेकिन कहीं इस मामले में लापरवाही भी बरतते हैं। कई बार वाहन चलाते वक्त धूल मिट्टी आंखों में चली जाती है और इस कारण भी आंखें खराब होने का डर बना रहता है। चिकित्सकों का कहना है कि आंखों को सुरक्षित रखना जरूरी इसलिए जितनी सावधानी हम रख सकते हैं उतना रखने का प्रयास किया जाना चाहिए।

कच्चा आंवला खाए या फिर जूस

वैसे तो साल भर ही आंवला बाजार में मिलता है लेकिन गर्मी के दिनों में इसका सेवन करना बहुत अच्छा बताया गया है। आंखों की चिकित्सकों के अलावा आयुर्वेद के चिकित्सकों का कहना है कि या तो हर दिन सुबह खाली पेट कच्चा आंवला खाया जाए या फिर अच्छी किसी कंपनी द्वारा बनाया गया आंवले का जूस भी सेवन किया जा सकता है।

भोजन में भी बरतते है लापरवाही

वैसे एक अध्ययन से यह भी पता चलता है कि हम भोजन तो करते हैे लेकिन इसमें पोष्टिक तत्वों की कमी बनी रहती है। शरीर को स्वस्थ्य रखने के  पौष्टिक तत्वों का भोजन में शामिल करना जरूरी है। इसलिए ध्यान रखा जाए कि यदि आंखों की रोशनी उम्र के पहले कम नहीं करना है तो फिर आंवले का सेवन करने की आदत ही बना लें।