हरियाणा : अवैध खनन करने वालों ने की डीएसपी की हत्या, डम्पर से कुचला

हरियाणा के नूहं क्षेत्र में पुलिस विभाग के डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई द्वारा अवैध खनन की जाँच की जा रही थी। इस दौरान डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई द्वारा शक होने पर एक डम्पर को संबंधित कागजात की जांच करने के लिए रोका गया। डम्पर के चालक द्वारा उन्हें देसी कट्टा दिखा कर रास्ते से हटने की धमकी दी गई और नहीं हटने पर उन्हें डम्पर से कुचलकर उनकी हत्या कर दी गई।

हरियाणा (Haryana) के नूहं जिले में तावडू इलाके के पुलिस उपाधीक्षक (DSP) की अवैध खनन का कार्य करने वाले अपराधियों द्वारा हत्या कर दी गई। हत्यारों द्वारा पहले उक्त डीएसपी को हथियार दिखाकर डराया गया और रास्ते से हट जाने की धमकी दी गई और डीएसपी के नहीं डरने पर उनके द्वारा डम्पर से कुचलकर उनकी हत्या कर दी गई। उक्त घटना के बाद हरियाणा पुलिस ने त्वरित एक्शन लेकर हत्या में प्रयुक्त डम्पर के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Also Read-शेयर बाजार : बैंकिंग और रियल इस्टेट सेक्टर में उछाल, निवेश का है अच्छा मौका

कागजात की जाँच करने को रोका गया था डीएसपी द्वारा डम्पर को

जानकारी के अनुसार हरियाणा के नूहं क्षेत्र में पुलिस विभाग के डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई द्वारा अवैध खनन की जाँच की जा रही थी। इस दौरान डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई द्वारा शक होने पर एक डम्पर को संबंधित कागजात की जांच करने के लिए रोका गया। डम्पर के चालक द्वारा उन्हें देसी कट्टा दिखा कर रास्ते से हटने की धमकी दी गई और नहीं हटने पर उन्हें डम्पर से कुचलकर उनकी हत्या कर दी गई।

Also Read-स्वस्थ जीवन शैली : बारिशों में बचें इन चीजों के सेवन से, कर सकती हैं बीमार

शहीद डीएसपी 3 महीनों के बाद होने वाले थे सेवानिवृत

अवैध खनन करने वाले अपराधियों द्वारा डम्पर से कुचलकर मारे गए हरियाणा के नूहं जिले में तावडू इलाके के शहीद पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) सुरेंद्र सिंह बिश्नोई आने वाले तीन महीनों की शेष पुलिस विभाग की सेवा के बाद सेवानिवृत होने वाले थे। जानकारी के अनुसार शहीद डीएसपी के द्वारा अपने बड़े भाई से सुबह आठ बजे के लगभग फोन पर चर्चा करते हुए जल्द ही घर लौटने की बात कही गई थी। उनके बड़े भाई अशोक कुमार बिश्नोई ने बताया की उनके भाई डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई के परिवार में पत्नी, एक बेटा और एक विवाहित बेटी है। बेटा कनाडा में पढ़ाई कर रहा है जबकि बेटी बेंगलुरु के एक बैंक में कार्यरत है। घटना के बाद से ही पूरा परिवार शोक में डूबा हुआ और सदमे में है।