नगर निगम द्वार जलूद में सोलर प्लांट प्रोजेक्ट के लिए ग्रीन पब्लिक बांड जारी करने के मसौदे को मंगलवार को निगम परिषद सम्मेलन में मंजूरी मिली। वहीं दूसरी ओर निगम के इस बांड के जारी हाेने से पहले अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेटिंग तय करने वाली एजेंसी इंडिया रेटिंग ने इसे ‘एए प्लस’ व अन्य एजेंसी केयर ने ‘एए’ रेटिंग दी है। जानकारों के मुताबिक यह रेटिंग बताती है कि बांड निवेश के लिए कितना सुरक्षित है।

मिलेंगे ज्यादा निवेशक

दोनों एजेंसियों द्वारा दी गई रेटिंग के बाद यह संभावना जताई जा रही है कि निगम के ग्रीन पब्लिक बांड के जारी होने के बाद ज्यादा निवेशक मिलेंगे।पुष्यमित्र भार्गव ने बताया कि अभी हर साल इंदौर तक पानी पहुंचाने के लिए डेढ़ सौ करोड़ रुपये बिजली बिल के पैसे नगर निगम को चुकाना पड़ते हैं। नगर निगम देश का पहला नगरीय निकाय होगा, जो किसी प्रोजेक्ट के लिए ग्रीन बांड जारी करेगा। आम लोग भी पहली बार इस बांड में निवेश कर सकेंगे। उनके लिए बांड की कीमत 10 हजार रुपये होगी।


ग्रीन बांड से नगर निगम को ढाई सौ करोड़ रुपये मिल रहे हैं। इसे खरीदने वालों को आठ प्रतिशत से ज्यादा ब्याज मिलेगा, जिसका अर्धवार्षिक भुगतान होगा। पिछले सप्ताह निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने मर्चेंट बैंक और लीगल कन्सलटेंट के प्रतिनिधियों से चर्चा की। निगम को सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड से अनुमति मिल गई है। जनवरी में शहर में प्रवासी सम्मेलन होगा। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में बांड के जारी होने की घंटी भी सांकेतिक तौर पर बजाई जाएगी।