भोपाल। मध्य प्रदेश के भोपाल में करणी सेना के सैनिकों का प्रदर्शन शुरू हो गया है। जातिगत आरक्षण खत्म कर आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने समेत 21 सूत्रीय मांगों को लेकर रविवार को करणी सेना परिवार ने जंबूरी मैदान पर हुंकार भरी। महासम्मेलन में रविवार दोपहर तक तीन लाख से अधिक लोग जुट चुके हैं। करणी सेना प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर ने चेतावनी दी कि सरकार जातिगत आरक्षण समाप्त करें वरना हम चुनावी राजनीति से परहेज नहीं करेंगे।

रविवार को जंबूरी मैदान में करणी सेना के बैनर तले राजपूतों ने शिवराज सरकार (Shivraj Government) के खिलाफ हुंकार भरी है। धरने में शामिल हो रहे प्रदर्शनकारियों ने खुली चुनौती देते हुए कहा कि देख लो शिवराज, यह सरकार की जुटाई भीड़ नहीं है, जो पैसे देकर और वाहनों में भरकर लाई जाती है। इसके साथ ही करणी सेना ने ऐलान किया कि मांगे नहीं मानी तो करणी सेना चुनावी मैदान में उतरकर सरकार को चुनैती देगी।

Also Read – प्रवासी भारतीय सम्मलेन में पहुंचे द इंडियन हाई स्कूल दुबई के बच्चे

जंबूरी मैदान में मध्यप्रदेश के अलावा हरियाणा, राजस्थान, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के कार्यकर्ता पहुंचे हैं। मैदान में युवा और करणी सेना के लोग ‘माई के लाल’ के नारे लगा रहे हैं। आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग को लेकर नारेबाजी कर रहे। इस जनआंदोलन में ब्राह्नाण पाटीदार समेत अन्य समाज का भी समर्थन मिला है।

करणी सेना ने आर्थिक आधार पर आरक्षण सहित 21 सूत्रीय मांगों को लेकर भोपाल में अपना महा आंदोलन शुरू किया है। करणी सेना के प्रमुख जीवन सिंह शेरपुरे ने चेतावनी दी है कि हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो विधानसभा घेरेंगे। करणी सेना प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर (Jeevan Singh Sherpur) ने भूख हड़ताल शुरू की है। शक्ति प्रदर्शन में राजस्थान के गैंगस्टर दिवंगत आनंदपाल सिंह के भाई (Brother of Anandpal Singh) पहुंचे। वह राजस्थान (Rajasthan) से करीब 70 गाड़ियां लेकर भोपाल पहुंचे हैं।

कार्यक्रम के पहले पुलिस ने जंबूरी मैदान की ओर जाने वाले रास्तों का ट्रैफिक डायवर्ट (traffic divert) कर दिया। इस दौरान युवा हाथों में बैनर और पोस्टर लेकर पहुंचे। युवा मैदान में पोस्टर दिखा कर नारेबाजी करते दिखे- देख मामा कौन आया, माई के लाल, माई के लाल। बता दें सात साल पहले शिवराज सिंह चौहान ने बयान दिया था कि कोई माई का लाल आरक्षण खत्म नहीं कर सकता।