देश में पहली बार संस्था संवेदना ने की स्तनपान के लिए बेबी केयर व फीडिंग सेंटर की स्थापना

शुद्ध पेयजल के लिए आर.ओ. प्लांट स्थापित किया जाएगा। यह संस्था द्वारा स्थापित तीसरा आरओ प्लांट होगा, जिसका मेंटेनेंस भी खुद संस्था ही कर रही है। इससे पहले एमवाय अस्पताल और एमटीएच अस्पताल में यह प्लांट सफलतापूर्वक चलाए जा रहे हैं।

इंदौर। स्वास्थ्य अधिकारी और प्राणी संग्रहालय के प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि इंदौर का प्राणी संग्रहालय संभवतः देश का पहला संग्रहालय है, जहां पर माताओं को अपने छोटे बच्चों (शिशु) के स्तनपान के लिए बेबी केयर व फीडिंग रूम की स्थापना की गई है। संवेदना लोक पारमार्थिक ट्रस्ट की सहयोग से स्थापित यह कार्य देशभर में नई नजीर स्थापित करेगा। संस्था ने निःस्वार्थ भाव से यह काम किया है और कई और काम भी कर रही है, जिसके लिए उसका प्रत्येक सदस्य साधुवाद का पात्र है।

उक्त विचार इंदौर नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी और प्राणी संग्रहालय के प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने संवेदना लोक पारमार्थिक संस्था द्वारा प्राणी संग्रहालय में स्थापित बेबी केयर व फीडिंग रूम के लोकार्पण और पौधारोपण कार्यक्रम के अवसर पर व्यक्त किए। उन्होंने बताया कि इस नए इनेशेटिव की जानकारी केन्द्रीय संग्रहालय को भी भेजी जाएगी क्योंकि प्रत्येक स्थान पर ऐसे केयर सेंटर की जरूरत है। 10 सालों में इंदौर के प्राणी संग्रहालय की स्थिति पूरी तरह बदल चुकी है। आने वाले दर्शकों से लेकर यहां की आय तक में लगातार बढ़ोतरी हुई है। इस कारण इस बेबी केयर रूम की महती आवश्यकता थी। संस्था संवेदना के कर्ताधर्ताओं ने बिना किसी प्रचार-प्रसार के यह स्थापित किया है।

Must Read- T20 Series Team India: भारतीय टीम का ऐलान, केएल राहुल बने टीम इंडिया के कप्तान

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ख्यात चिकित्सक डॉ. योगेशभाई शाह ने संस्था की तारीफ करते हुए कहा कि वो इससे कई बार जुड़े है। यहां पर हर सदस्य पदाधिकारी है और प्रत्येक सदस्य कार्यकर्ता भी है। संस्था के अध्यक्ष सीए डॉ. प्रमोद गर्ग ने संस्था की जानकारी देते हुए बताया कि सात सदस्यों से शुरू हुई यह संस्था आज वटवृक्ष का रूप धारण कर चुकी है। इससे न केवल आम आदमी बल्कि सीए, प्रोफेसर, डॉक्टर, प्रोफेशनल, समाजसेवी, व्यवसायी और अन्य लोग जुड़े है। यहां पर केवल आर्थिक रूप से सहयोग देना ही जरूरी नहीं होता है, बल्कि हम सदस्य को खुद आगे आकर व्यक्तिगत सहयोग की अपेक्षा करते है, जो हमेशा मिलता है। उन्होंने बताया कि जल्दी ही यहां पर शुद्ध पेयजल के लिए आर.ओ. प्लांट स्थापित किया जाएगा। यह संस्था द्वारा स्थापित तीसरा आरओ प्लांट होगा, जिसका मेंटेनेंस भी खुद संस्था ही कर रही है। इससे पहले एमवाय अस्पताल और एमटीएच अस्पताल में यह प्लांट सफलतापूर्वक चलाए जा रहे हैं।

इस अवसर पर संस्था के सदस्यों ने प्राणी संग्रहालय में 100 पौधों का रोपण भी किया। इससे पहले भी संस्था 480 पौधे रोपित कर चुकी है, जो लगातार संस्था और चिड़ियागढ़ के कर्मचारियों की लगातार मॉनिटरिंग के कारण पेड़ का स्वरूप ले चुके है और बेकार पड़ी जमीन पर लहलहारे रहे हैं। संस्था संवेदना द्वारा कार्यक्रम में लगातार सहयोग प्रदान करने वाले सदस्यों और महानुभावों का सम्मान भी किया गया। इनमें आईसीएआई की इंदौर शाखा के पूर्व अध्यक्ष सीए कीर्ति जोशी, ओप्पो मोबाइल के एमपी-सीजी के सीईओ वैभव जैन, सेंट्रल लेब की चेयरमेन डॉ. विनिता कोठारी, ब्लड डोनर व समाजसेवी मुस्तफा भाई, आरओ प्लांट से संबंधित जितेन्द्र दवे, राकेश शर्मा व शक्ति शर्मा, एमवाय का काम देख रही मीनाबेन शाह, कार्यक्रमों की व्यवस्थापक की भूमिका निभाने वाले निखिल देसाई के साथ राकेश यादव, संतोष सिंह, दीपक उधाने व दयाराम धुपकरिया को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। इस अवसर बड़ी संख्या में शहर के गणमान्य नागरिकों के अतिरिक्त सक्रिय सदस्य डॉ. राकेश गर्ग, विजय गुप्ता, सीए राजेन्द्र शर्मा, डॉ. रूपेश मित्तल, सीए ईश्वर कलंत्री आदि भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रो. डॉ. संजय मेहता ने किया और आभार प्रो. डॉ. राजेन्द्र शर्मा ने माना।

Must Read- दीपों से रोशन होगी इंदौर नगरी, गौरव दिवस के लिये बनने लगा है उत्साह का वातावरण

शहर के करीब 200 से ज्यादा प्रोफेसर्स, प्रोफेशनल्स, व्यापारी आदि इन मरीजों व परिजनों को खाना से लेकर दवाइयां तक की सुविधाएं उपलब्ध कर संवेदनाएं बांट रहे हैं। पिछले कई सालों से यह लोग संस्था ‘संवेदना’ के माध्यम से खुद जाकर सैकड़ों लोगों की परेशानी दूर करने का काम बिना प्रचार-प्रसार से कर रहे हैं। अधिकांश लोग खुद प्रतिमाह न केवल अपना अंशदान देते है बल्कि खुद आकर सेवाकार्य में हाथ भी बंटा रहे हैं। संस्था द्वारा अस्पतालों में मरीजों व उनके परिजनों के लिए भोजन पैकेट वितरित करने के साथ ही दवाई की व्यवस्था, ऑपरेशन की खर्च, इलाज का खर्च आदि की व्यवस्था की जाती है। इसके अतिरिक्त संस्था आरओ प्लांट की स्थापना के साथ ही अन्य कार्य भी कर रही है।