बड़ौदा राजघराने की मदद से सिंधिया को भाजपा में लाने की कोशिश

0

ग्वालियर । बार-बार खबरें आ रही हैं कि ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में जा सकते हैं। अब खबर है कि बड़ौदा राजघराने के जरिये भाजपा उन्हें अपने खेमे में ला सकती है। ये जानकारी एक अंग्रेजी अख़बार से आई है | सूत्रों के मुताबिक सिंधिया और कमलनाथ सरकार के बीच बढ़ती तनातनी उनके दो दिन के ग्वालियर दौरे में दिखी। संकेत मिले कि सिंधिया जल्द कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। सिंधिया की ससुराल बड़ौदा राजघराने से है। उन्हीं की मदद से वे भाजपा में जा सकते हैं। गायकवाड़ राजघराना गुजरात में मशहूर है। अमित शाह की इस घराने से नजदीकियां हैं।

सिंधिया के बारे में बड़ा एलान

सूत्र बताते हैं कि जैसे ही म.प्र. कांग्रेस अध्यक्ष का फैसला होगा, सिंधिया खुद के बारे में बड़ा ऐलान कर सकते हैं। कुछ दिन पहले सिंधिया के एक नजदीकी रिश्तेदार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इसी के बाद से उनके भाजपा में जाने की बात फैली। हालांकि, ग्वालियर के कुछ भाजपा नेता, सिंधिया को पार्टी में लेने के खिलाफ हैं। इस बारे में अपनी नाराजगी अमित शाह तक पहुंचा दी है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, अनूप मिश्रा, जयभान सिंह पवैया जैसे बड़े चेहरे, सिंधिया का विरोध कर रहे हैं।

सिंधिया बोले- ये सब अफवाह है
सिंधिया सब बातों को अफवाह बताते हैं। इसके पीछे भाजपा की चाल का आरोप लगाते हुए कहते हैं कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह से कोई दूरियां नहीं हैं। यह तो भाजपा है, जो हमारी जड़ों में मट्ठा डालने की कोशिश कर रही है। विधानसभा चुनाव के बाद सिंधिया को सीएम बनाने की बात उठी थी, लेकिन पार्टी ने कमलनाथ को मौका दिया। अब सिंधिया के साथी चाहते हैं कि हमारे नेता या उनके नजदीकी को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दे दी जाए। दिल्ली से पार्टी पर नजर रखने वाले बता रहे हैं कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद सिंधिया की कांग्रेस में पकड़ कमजोर हुई है। वे चाहते हैं कि प्रदेश की राजनीति में कुछ बड़ी जिम्मेदारी मिले।