हैदराबाद। शनिवार को केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हम शांति चाहते हैं, संघर्ष नहीं। रक्षा मंत्री ने कहा कि राफेल के आने के साथ वायु सेना में विश्वास और बढ़ गया है। इसके साथ ही हम स्वदेशी ज्ञान के साथ रक्षा के क्षेत्र में कई नए उपकरण की खोज भी कर रहे हैं।

दरअसल, राजनाथ सिंह डुंडीगल वायु सेना अकादमी, हैदराबाद में संयुक्त स्नातक परेड में मुख्य अतिथि के रूप में अपनी उपस्थिति दी थी। साथ ही प्रशिक्षण पूरा करने वाले कैडेटों ने परेड में भी हिस्सा लिया। केंद्रीय मंत्री ने डुंडीगल वायु सेना अकादमी का दौरा किया और प्रशिक्षित कैडेटों द्वारा आयोजित परेड में भाग लिया। वायु सेना ने अकादमी में आने पर रक्षा मंत्री का जोरदार स्वागत किया। उनसे सलामी लेने वाले राजनाथ सिंह ने पासिंग आउट परेड में प्रतिभागियों के प्रदर्शन की सराहना की। सर्वश्रेष्ठ प्रतिभा दिखाने वालों को पुरस्कार प्रदान किए गए।

इस दौरान राजनाथ सिंह ने कहा कि, भारत शांति चाहता है, संघर्ष नहीं। साथ ही उन्होंने वायुसेना को किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि, सुरक्षा बल आतंकवाद को उखाड़ फेंकने के लिए पूरा प्रयास कर रहे हैं। राजनाथ सिंह ने सुझाव दिया कि, आने वाले दिनों में साइबर युद्ध पर भी कामयाबी पाना जरूरी है। इस कार्यक्रम में वायु सेना के प्रमुख एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया और अन्य लोगों के साथ केंद्रीय गृह मंत्री किशन रेड्डी ने भी भाग लिया है।