राज्यसभा में भी पास हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक, पक्ष में पड़े 125 वोट

0
41

नई दिल्ली। बुधवार को राज्यसभा में चली लंबी बहस के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पास हो गया है। बिल के पक्षा में 125 वोड़ पड़े। जबकि इसके विपक्ष में 105 सदस्यों ने वोटिंग की। वहीं वोटिंग के दौरान शिवसेना ने सदन से वाकआउट किया। इससे पहले बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजने के लिए वोटिंग की गई थी, जिसके विपक्ष में 124 वोट पड़े जबकि बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजने के पक्ष में 99 सदस्यों ने वोटिंग की। वहीं सदन की कार्यवाही कल 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है।

बता दे कि अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा और इस पर राष्ट्रपति की मुहर लगते ही पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान जैसे देशों के अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता मिलने का रास्ता साफ हो जाएगा। इस विधेयक उक्त देशों में रहने वाले हिंदू, जैन, सिख, ईसाई, पारसी, बौद्ध समेत छह धर्मों के नागरिकों को शामिल किया गया है।

पीएम मोदी ने बताया ऐतिहासिक दिन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस बिल के पास होने पर खुशी जताई है और बिल के पक्ष में वोट करने वाले सांसदों का आभार व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और हमारे देश के करुणा और भाईचारे के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। खुशी है कि राज्यसभा में नागरिक संशोधन विधेयक 2019 पास किया गया। सभी सांसदों का आभार जिन्होंने विधेयक के पक्ष में मतदान किया। यह विधेयक कई लोगों की पीड़ा को दूर करेगा जिन्होंने वर्षों तक उत्पीड़न का सामना किया।

सोनिया गांधी ने बताया काला दिन

इस बिल के पास होने के बाद से ही विभिन्न राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया आना भी शुरू हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इसे संविधान के लिए काला दिन बताया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here