चरण पादुका ग्रुप कर रहा लोगों की सहायता, 2016 से चल रहा है कारवां

प्रदेश में अन्य जगह भी लोग रत्नेश का अनुशरण करने लगे। मित्र मण्डली ने इस अभिनव प्रयास का नाम चरण पादुका रखा।इस वर्ष भी गर्मी मै परेशान होते बच्चो और बुजुर्गो को चरणपादुका ग्रुप द्वारा चप्पले वितरित की गई है।

ताज़ा क़लम – मित्र रत्नेश टोग्या का सेवा जज़्बा

मेरे मित्र और सेठ शोभालाल गम्भीर मल गुलाब चंद रमेश चंद परिवार के कुल दीपक है रत्नेश टोग्या
ख़ानदानी है , सन् 2016 में उनके मन में पीड़ा जागी। सड़क चलते एक बिटिया को भर गर्मी दोपहरी में नंगे पाँव सड़क जाते देखा , मन विचलित हो गया, कुछ करने का विचार आया, मित्रों के सामने पीड़ा ज़ाहिर की और कहाँ क्यों न गर्मी में जो भी बेसहारा नंगे पैर दिखे, उसे चप्पल अपने हाथ से पहनाई जाए, जज्बा था मित्रों ने हाथों हाथ लिया, 2016 से शुरू हुआ कांरवा बढ़ता ही गया। आज 2022 में अनाथ आश्रम से सेवाधाम तक पहुंच गया।

प्रदेश में अन्य जगह भी लोग रत्नेश का अनुशरण करने लगे। मित्र मण्डली ने इस अभिनव प्रयास का नाम चरण पादुका रखा।इस वर्ष भी गर्मी मै परेशान होते बच्चो और बुजुर्गो को चरणपादुका ग्रुप द्वारा चप्पले वितरित की गई है। सभी मित्रों की कार की डिक्की हमेशा चप्पल से भरी रहती है जब जहाँ कोई भी नंगे पैर दिखा हम उसको पहना देते है ओर गई वृद्धाश्रम,बाल आश्रम, कन्या आश्रम मैं भी वितरित की गई।

सतत सेवा के 7 साल हो गए है रामनवमी से की गई शुरुआत कल पूर्णिमा पर समाप्त हो जाती है। उन्मुक्त हाथो से दिल खोल कर दिया अनुदान ओर हमारे सहयोगी भाई, बहनों ओर भाभियों के द्वारा की गई सेवा का रत्नेश भाई और पूरे चरणपादुका ग्रुप बहुत बड़ा कार्य कर रहे है।
जो दूसरों की पीड़ा समझता है वही असली धर्म है।
बधाई रत्नेश जी व चरण पादुका टीम को
धन्यवाद
नकुल पाटोदी